Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

अब यूपी में गौ हत्या पर होगी दस साल की सजा, योगी कैबिनेट ने पास किया प्रस्ताव

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश सरकार गोवंशीय पशुओं की रक्षा और गोकशी की घटनाओं से जुड़े अपराधों को रोकने लिए अब और सख्ती करने जा रही है। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने गौ-ह्त्या पर रोक लगानें के लिए बड़ा कदम उठाया है। यूपी में अब गौ-ह्त्या करनें वालों को कड़ी सजा मिलेगी।

इसके तहत इस तरह के अपराधों को संज्ञेय व गैरजमानती बनाया जाएगा। दंड व जुर्माने को भी बढ़ाया जाएगा। गोकशी करने पर अब दस साल की सजा होगी। अभी तक गोवंश को नुकसान पहुंचाने पर सजा का प्रावधान नहीं था। अब इसमें एक साल से सात साल तक की सजा का प्रावधान कर दिया गया है। इस कदम से गोवंशीय पशुओं को हानि पहुंचाने व उनके गैरकानूनी व अनियमित परिवहन पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी।

गोवध को लेकर योगी सरकार का बड़ा फैसला

उत्तर प्रदेश में गोवध निवारण संशोधन अध्यादेश 2020 के प्रारूप को स्वीकृति
गोवध निवारण अधिनियम को और अधिक सुदृढ़ संगठित एवं प्रभावी बनाने का निर्णय

अधिनियम का उद्देश्य गोवंश की रक्षा तथा गोकशी से संबंधित अपराधों को पूर्णत रोकना है


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में यूपी गो-वध निवारण (संशोधन) अध्यादेश, 2020 के प्रारूप को स्वीकृति प्रदान की। इस अध्यादेश को लाने और उसके स्थान पर विधानमंडल में विधेयक पेश कर पुन: पारित कराये जाने का फैसला भी कैबिनेट ने किया है। राज्य विधानमंडल का सत्र ना होने और शीघ्र कार्रवाई किये जाने के मद्देनजर अध्यादेश लाने का फैसला किया है।

इस बात की जानकारी अपर मुख्य सचिव ( गृह एवं सुचना ) अवनीश कुमार अवस्थी ने दी है। अवस्थी ने बताया की, गोवध निवारण कानून को और अधिक मजबूत बनाने के मकसद से उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने 1955 के इस कानून में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा की, राज्य विधानमंडल का सत्र ना होने के मद्देनजर उत्तर प्रदेश गोवध निवारण (संशोधन) अध्यादेश, 2020 लाने का फैसला किया है।