Breaking News उत्तर प्रदेश

अयोध्या-अयोध्या के भगवदाचार्य स्मारक सदन में ज.गु. रामानन्दाचार्य महराज की 720वीं जयंती धूमधाम से मनाई गई

अयोध्या। स्वामी भगवताचार्य स्मारक सदन समिति के तत्वाधान में शुक्रवार की सुबह जगद्गुरु रामानंदाचार्य महाराज की 720वीं जयंती समारोह बड़े ही हर्ष उल्लास के साथ मनाया गया। यह आयोजन भगवदाचार्य स्मारक भवन अयोध्या सब्जी मंडी निकट मनाया गया।
इस दौरान अयोध्या के संतों महंतों ने जगद्गुरु रामानन्दाचार्य जी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उनको याद व नमन किए। ततपश्चात सभी सन्तो महंतो का आयोजन समिति की ओर से माला पहनाकर स्वागत सत्कार किया गया।
इस मौके पर मुख्य अतिथि दशरथ महल मन्दिर के परमार्थी गौ सन्त सेवी महंत बिंदूगदाचार्य स्वामी देवेंद्र प्रसादाचार्य महराज ने कहा कि ज.गु.रामानन्दाचार्य महराज अदिवतीय है। उन्होंने कहा कि आचार्य कृपा से ही सब काम सिद्ध होता है। साथ ही कहा कि महापुरुषो की सानिध्यता से ही अच्छे फलो कि प्राप्ति होती है। कथावाचिका सुनीता शास्त्री, ज.गु. बल्लभाचार्य महराज, महामंडलेश्वर प्रेम शनकरदास महराज, पंडित कौशल्या नन्दन वर्द्धन, मानस मार्तंय राममंगल दास रामायणी, सुप्रसिद्ध कथावाचक स्मृति शरण महराज आदि ने रामानन्दाचार्य महराज के व्यक्तित्व कृतत्व पर व्यापक प्रकाश डालते हुए अपने अमृतमई प्रवचनों व वाणी से उपस्थित जन समुदाय, छात्रों को अभीसिंचित किए।
कार्यक्रम की अध्यक्षता दशरथ महल मन्दिर के महंत बिंदू गदाचार्य स्वामी देवेंद्र प्रसादाचार्य महराज ने किया। जबकि संचालन नव्याचार्य तुलसीदास महराज ने किया। आयोजन मानस मार्तंय राम मंगल दास रामायणी ने किया तथा इस आयोजन के मुख्य व्यवस्थाक राजीव पांडेय रहे।
इस दौरान बधाई गान का भी भव्य आयोजन हुवा। जिसमें छात्रों ने कई बधाई गान प्रस्तुत कर सबका दिल जीत लिया। कार्यक्रम के अंत मे विशाल प्रसाद का वितरण किया गया। कार्यक्रम में अयोध्या के सन्त महंत गीत संगीत कथा आदि सीखने वाले छात्र आदि काफी संख्या में शामिल रहे। कार्यक्रम के अंत में मानस मार्तंय राम मंगल दास रामायणी व राजीव पांडेय ने सभी आगन्तुको के प्रति आभार ज्ञापित किये।
कार्यक्रम में महंत रघुनाथ दास शास्त्री, रामायणी श्री कृष्ण आचार्य, रामसेवक दास, श्री राम नंदन दास, अतुल कृष्ण शास्त्री, राधेश्याम शास्त्री, दीपक कृष्णा, आनंद पांडे, मांडवी, राघवेंद्र दास, बलराम शरण व देवी दयाल शास्त्री आदि उपस्थित रहे।