Breaking News बड़ी खबर राष्ट्रीय

आगरा- ड्रोन से दवा का छिड़काव,आगरा के ऊपर ‘पाकिस्तानी टिड्डियों का खौफ’

आगरा. कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी से जूझ रहा उत्तर प्रदेश के ऊपर एक और संकट मंडराने लगा है. इसी कड़ी में आगरा (Agra) में टिड्डी दल (Locust Group) पहुंच चुका है. पाकिस्तान से टिड्डियों के दल ने ताजनगरी पर हमला बोल दिया. सोमवार रात से शहर के ऊपर टिड्डी दल मंडरा रहा है. मंगलवार की सुबह शहर में टिड्डी दल पर कीटनाशक छिड़काव के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है. ग्रामीण क्षेत्र में भी कृषि विभाग की टीमें तैनात गई हैं. उप निदेशक कृषि एसएन सिंह ने बताया कि 60 प्रतिशत से अधिक टिड्डियों की मौत हो चुकी है. उन्होंने बताया कि टिड्डी दल पर कीटनाशक छिड़काव के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है. वहीं बड़ी-बड़ी टिड्डियों को देखकर लोग दहशत में आ गए.

बताया जा रहा है कि फिरोजाबाद से टूंडला होते हुए टिड्डी दल ने एत्मादपुर में प्रवेश किया. यहां से होते हुए नुनिहाई, रामबाग से टिड्डियां अलग-अलग झुंड में बंट गईं. छोटे-छोटे दल विजय नगर, वजीरपुरा, संजय प्लेस, पीर कल्याणी, गधापाड़ा, एमजी रोड तक फैल गईं है. एक तरफ कोरोना संक्रमण, ऊपर से टिड्डी दल का आक्रमण, इस डबल अटैक से प्रशासन की चिंता बढ़ गई है. अधिकारी दिन रात से इस आफत से निपटने के लिए जुटे हुए हैं. किसानों को आगाह किया जा रहा है. जिले में कई जगह कीटनाशक मशीनों के साथ टीमें तैनात कर दी गई हैं.
बता दें कि टिड्डी कीट की तीन अवस्थाएं होती हैं, जिसमें से व्यस्क टिड्डी काफी हानिकारक होते हैं. टिड्डी दल दिन के समय सूर्य की चमकीली रोशनी में उड़ते रहते हैं. लेकिन शाम होने पर झाड़ियों और पेड़ों पर आराम करने के लिए नीचे उतर जाते हैं और वहीं पर रात गुजारते हैं. टिड्डी दल सूरज डूबने से दिन निकलने तक पेड़ पौधों पर आश्रय लेते हैं. ऐसे प्रभावित क्षेत्रों में कृषि रक्षा रसायनों का छिड़काव ट्रैक्टर माउंट स्प्रेयर, अग्निशमन विभाग की गाड़ियों के साथ-साथ नेपसेक स्प्रेयर से किया जा रहा है. इन रसायनों के छिड़काव का रात के समय कराया जाता है.