Breaking News

कानपुर,यूपी : पुलिस पर हमला केस में गिरफ्तार 8 लोग मिले निर्दोष, पुलिस ने ही कराया जेल से रिहा

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में बजरिया थाना क्षेत्र में शौकत अली पार्क के पास 29 अप्रैल को कोरोना संदिग्ध मरीज (Corona Suspect Patient) को ले जाते वक्त हुए बवाल के दौरान पकड़े गए आरोपितों में से 8 को पुलिस ने खुद ही जेल से रिहा करा लिया है. सभी लोग घर वापस आ गए हैं. शहर काजी हाफिज अब्दुल कुद्दउस ने बताया कि दफा-169 के तहत इन सभी को रिहा किया गया है. दरअसल पुलिस पर हुए हमले में 22 आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया था.

शहर काजी ने पेश किए बेगुनाही के सबूत

शहर काजी प्रशासनिक अधिकारियों से संपर्क बनाए हुए थे कि 8 आरोपी बेगुनाह हैं, जिनका बवाल से कोई लेना-देना नहीं है. उन्होने इस संबंध में वीडियो फुटेज सहित तमाम सबूत भी उपलब्ध कराए. अधिकारियों से कई बार मुलाकातें हुईं. उन्होंने कहा कि घटना के वक्त वह वहां से गुजर रहे थे. उसके प्रमाण भी दिए. मगर पुलिस ने उन्हें उपद्रवी मानते हुए गिरफ्तार किया था. उच्च अधिकारियों के निर्देश पर उन्हें रिहा कर दिया गया.

फिर से की गई जांच तो 8 आरोपी मिले निर्दोष: सीओ

इस पूरे मामले पर क्षेत्राधिकारी त्रिपुरारी पांडेय ने बताया 29 अप्रैल को पुलिस पर हमला और बवाल किया गया था. सभी आरोपियों को जेल भेज दिया गया. शहर काजी और मुस्लिम संगठनों के लोगों द्वारा प्रार्थना पत्र देकर 8 आरोपियों को बेगुनाह बताते हुए कुछ साक्ष्य प्रस्तुत किए थे, जिसमें affidavit दिया गया और वीडियो फुटेज उपलब्ध कराई गई थी. इसके बाद एक बार फिर से विवेचक ने इसमें विवेचना की, जिसके बाद 8 आरोपी निर्दोष पाए गए.

ये आठ लोग हुए जेल से रिहा

क्षेत्राधिकारी त्रिपुरारी पांडेय ने बताया कि न्यायालय में धारा 169 की रिपोर्ट दी गई, जिसके आधार पर विवेचक थाना प्रभारी, सीसामऊ ने अपनी रिपोर्ट के देने के बाद उन्हें छुड़वाया. इनमें फुरकान, एहसान, आरिफ, नफीस, जाहिद, अकबर, अनीस, जाहिर अली को जेल से रिहा कर दिया गया. सीओ त्रिपुरारी पांडेय ने बताया कि कानून सबके लिए एक समान है. जो दोषी हैं वह बख्शाा नहीं जाएगा, वहीं जो निर्दोष हैं कानून उसके साथ है. बजरिया के प्रकरण में अभी पुलिस की दबिश जारी है. अन्य आरोपितों की तलाश जारी है. बहुत जल्द ही सलाखों के पीछे होंगे.

http://tv9hindustan.in/2897/