Breaking News उत्तर प्रदेश

गोंडा -5 बार टूट चुका है एल्गिन चरसड़ी बांध फिर भी हो रहा बालू खनन

एक पुरानी कहावत है करे कोई भरे कोई, यह मुहावरा इस समय गोंडा जिले में चरितार्थ हो रही है।
मामला गोंडा और बाराबंकी जिले की सीमा पर बने एल्गिन चरसड़ी बांध का है जहां बालू के खनन को लेकर धीरे-धीरे बांध को खतरा बढ़ता जा रहा है आपको बता दें लगभग 17 वर्ष पूर्व बने एल्गिन चरसड़ी बांध अब तक 5 बार टूट चुका है जिससे कई गांव उसकी चपेट में आए और काफी तबाही भी हो चुकी है लेकिन अभी तक इस बात का कोई स्थाई हल नहीं निकल पाया है अब इस प्रकार से हो रहे हैं बालू खनन को लेकर लोगों में भय व्याप्त है कि इतने मात्रा में बालू निकालने के बाद यदि बांध पुनः टूटा तो स्थिति भयावह हो सकती है।
हालांकि बालू खनन का यह कार्य बाराबंकी जिले में हो रहा है लेकिन इसके आने जाने का मार्ग पूरी तरह से गोंडा जिले के करनैलगंज तहसील के अंतर्गत आता है प्रतिदिन करीब सैकड़ों की संख्या में ट्रक डंपर ट्राली बालू की धुलाई कर रहे हैं जिससे के आसपास के सभी मार्ग पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुके हैं, जानकारी में यह भी आया है की बालू की टेंडरिंग कर डंप बालू की उठान की परमिशन दी गई है लेकिन लोगों का आरोप है के ठेकेदार जब बालू को ना उठा कर नए स्थानों से बालू की खुदाई कर रहे हैं जिससे बांध को खतरा उत्पन्न हो सकता है जिसे लेकर आसपास के ग्रामीणों में रोष व्याप्त है ,अब देखना यह है इसे लेकर गोंडा और बाराबंकी का प्रशासन क्या कदम उठाता है।