Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

गोरखपुर यूपी – प्रशासन से लगाई न्याय की गुहार:”साहब कौन समझेगा हम ठेला चालको का दर्द”,ना पास ना परमिशन रोज कमाने खाने वालों का बुरा हाल…..

कोरोना वायरस को लेकर पूरे देश मे लॉकडाउन चल रहा।।इसका कड़ाई से पालन कराने के लिए गोरखपुर प्रशासन भी पूरे मुस्तैदी से लगा हुआ है।।पर लॉकडाउन के बीच कई परिवार को संकट का भी सामना करना पड़ रहा।।लॉकडाउन में ठेला चालको व उनके परिवार को संकट का सामना करना पड़ रहा।।गोरखपुर के तिवारीपुर थाना क्षेत्र के इलाहीबाग व नरसिंहपुर क्षेत्र के लगभग 28-30 परिवार ऐसे है जो रोज ठेला चला कर अपना जीवन यापन करते है।।लॉकडाउन के दौरान इन पर संकट के बादल छा गए है।।इन्हें ना तो पास मिला ना परमिशन।।

नरसिंहपुर के रहने वाले राजू के परिवार में 6 सदस्य है।।जिसमे राजू व उनका बेटा कमाने वाले है जिससे उनकी रोजी-रोटी चलती है।।राजू ठेला लगाते है और उनका बेटा कैमरे का काम करता है।।पर पास ना बन पाने के कारण राजू ठेला नही लगा पा रहे और घर पर पड़े है।।

ऐसी ही कुछ कहानी भीम शाह की भी है।।उसके परिवार में 5 सदस्य है जिनकी रोजी रोटी ठेले के बदौलत चलती है।।भीम की पत्नी टॉफी फैक्ट्री में काम करती है वो भी बंद है।।इनका भी पास रिजेक्ट कर दिया और फिर ये फर्जी पास के चक्कर मे पड़ कर पुलिस की डांट खाने को मिला है।।

राकेश के परिवार की बात करे तो उसके परिवार में 4 सदस्य है जो ठेले के ही दम पर जी खा रहे।।पर जब इन्होंने पास के लिए अप्लाई किया तो रिजेक्ट हो गया।।और एक दिन जब बिना पास के निकलने की कोशिश की तो पुलिस के शिकार हो गए।।

ऐसे ही कई परिवार की कहानी है जो ठेले के दम पर अपना जीवन यापन कर रहे पर इन्होंने जब पास के लिए अप्लाई किया तो पास रिजेक्ट हो गया।।ऐसे में इन परिवारों पर संकट के बादल छाए हुए है पर इन्हें पूछने वाला कोई नही है ना अधिकरी ना नेता।।पास के लिए जगह-जगह हाथ पैर मार रहे इन ठेला चालको से कुछ लोगो से पैसे ऐंठ लिए और फर्जी पास बना कर दे दिया जिन्हें पुलिस का शिकार भी बनना पड़ा।।देखना है इनकी सुधि अब कौन और कब लेता है।।फिलहाल इनका दर्द यही है “साहब हम क्या करे… ना पास ना परमिशन कैसे चलेगा घर….”