Breaking News देश -विदेश बड़ी खबर

चीन की छाती पर अमेरिकी जंगी बेड़े ने लंगर डाला, किसी भी समय भड़क सकती जंग की ज्वाला

चीन की छाती पर अमेरिकी जंगी बेड़े ने लंगर डाला, किसी भी समय भड़क सकती जंग की ज्वाला

ताईपे। अमेरिका और ताईवान ने चीन को घेर लिया है। अमेरिका का जंगी बेड़ा ताईवान की खाड़ी से होकर साउथ चाइना सी में पहुंच चुका है। अमेरिकी जंगी बेड़े के साथ ताईवान की सेना भी है। चीन के लिए हालात बेहद तनावपूर्ण है। चीन चाहकर भी अमेरिका या ताईवान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहा है। क्योंकि इस समय चीन कई मोर्चों पर जंग के मुहाने पर खड़ा है। लद्दाख में भारत के साथ हालात सामान्य करने के लिए चीन ने अपनी सेनाओं को पीछे भेज दिया है। लेकिन ताईवान के साथ हालात बेहद संगीन हो चुके हैं। अगर चीन अमेरिकी जंगी बेड़े की मौजूदगी का जवाब नहीं देता है तो ताईवान और साउथ चाइना सी के कुछ हिस्से उसके हाथ से जा सकते हैं। अगर जवाब में अमेरिका या ताईवान पर आक्रामक कार्रवाई करता है तो दुनिया की लगभग सभी ताकतों कई बड़ी ताकतों से चीन को एक साथ युद्ध करना पड़ सकता है। चीन के सामने इस वक्त करो या मरो की स्थिति है। दोनों ही स्थितियों में नुकसान चीन को ही उठाना पड़ सकता है।

विवादित साउथ चाइना सी में स्थित ताइवान की खाड़ी से होकर अमेरिकी युद्धपोत के गुजरने के बाद हालात और बिगड़ गए हैं। ताईवान में एक निर्वाचित सरकार है। लेकिन चीन ताईवान को जबरन अपनी एनेक्सी मानता है। अमेरिका और फ्रांस जैसे तमाम देशों ने ताईवान के साथ सामरिक और व्यापारिक समझौते कर रखे हैं। चीन हर बार आपत्ति जताता है लेकिन कोई भी देश चीन की आपत्ति पर गौर नहीं करता। ऐसी स्थिति में ताइवान की खाड़ी में अमेरिकी युद्धपोत की मौजूदगी से चीन जलभुन गया है। ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिकी युद्धपोत ताइवान स्ट्रेट से होकर साउथ चाइना सी में नियमित गश्त पर निकला है। मंत्रालय ने यह भी कहा कि ताइवान के सशस्त्र बलों ने जहाज को पूरी सुरक्षा प्रदान की।

अमेरिकी जंगी बेड़े यूएस पैसिफिक फ्लीट ने सोशल मीडिया के जरिए बताया कि जिस जहाज ने शुक्रवार को ताइवान की खाड़ी में गश्त की वह वो डेस्ट्रायर यूएसएस रसेल है। अमेरिकी नौसेना अक्सर ताइवान के साथ मिलकर इस इलाके में गश्त लगाती रहती है। दरअसल, इसी इलाके में युद्धाभ्यास करने जा रहा है। उसकी निगाह उन कुछ द्वीपों पर है जो ताईवान के अधिकार क्षेत्र में आते हैं। युद्धाभ्यास के बहाने चीन इन द्वीपों को हड़पना चाहता है। इसीलिए ताईवान ने अमेरिकी जंगी बेड़े को साउथ चाईना सी में बुलाया है। साउथ चाईना सी में अमेरिकी जंगी बेड़े की मौजूदगी से ताईवान की सुरक्षा मजबूत मानी जा रही है।