Breaking News खेल नई दिल्ली बड़ी खबर राष्ट्रीय

नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी जब भी स्टंप के पीछे होते है, तब वो हमेशा गेंदबाजों को जरूरी सलाह देते हैं,

नई दिल्ली: टीम इंडिया के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) ने भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी (MS Dhoni) की तारीफ करते हुए कहा है कि धोनी ने हमेशा उनका मार्गदर्शन किया है और उन्हें सही रास्ता दिखाया है. कुलदीप ने आगे बताया कि धोनी के अनुभव का उन्हें काफी फायदा मिला है क्येंकि धोनी को ये पता होता है कि कौन सा बैट्समैन किस तरह से बॉल को खेलेगा. यहां आपको याद दिला दें कि कुलदीप इंडिया के लिए वनडे क्रिकेट में 2 बार हैट्रिक लेने वाले इकलौते गेंदबाज हैं. इतना ही नहीं अपनी जादुई स्पिन गेंदबाजी के बल पर कुलदीप ने भारत को कई मैंचों में जीत दिलवाई है.

इसमें कोई दो राय नहीं कि कुलदीप एक बेहतरीन गेंदबाज हैं और उन्होनें भारत को कई बड़ी जीत दिलाने में अहम भूमिका अदा की है. इसके बावजूद आज क्रिकेट का हर जानकार ये जानता है कि 2019 वर्ल्ड कप के बाद से कुलदीप के प्रदर्शन में गिरावट आई है. इसका एक बड़ा कारण धोनी का विकेट्स के पीछे न होना है. आप सबको यह मालूम ही है कि 2019 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल के बाद से धोनी ने टीम इंडिया के लिए कोई मैच नहीं खेला है और अगर उनकी कमी किसी गेंदबाज को सबसे ज्यादा खल रही है तो वो गेंदबाज कुलदीप यादव ही हैं.
हाल ही में एक वेबसाइट को दिए अपने एक इंटरव्यू के दौरान जब कुलदीप से ये पूछा गया कि क्या धोनी के टीम में न होने से उनकी गेंदबाजी पर इसका नेगेटिव असर पड़ा है, तो कुलदीप ने इसका जवाब कुछ इस तरह दिया, ‘बेशक! माही भाई ने हमेशा मुझे रास्ता दिखाया है, क्योंकि एक विकेटकीपर हमेशा गेंदबाज के लिए अच्छा जज होता है. माही भाई जैसे अनुभवी विकेटकीपर को बल्लेबाज के बारे में पता होता है कि वह कैसे खेल रहा है. यह सब एक टीम वर्क है. सिर्फ इसलिए क्योंकि माही भाई विश्व कप के बाद नहीं खेले हैं, मुझे किसी को कुछ भी साबित करने की जरूरत नहीं है. मुझे यह कहने की जरूरत नहीं है कि क्या मैं उन पर निर्भर था. मैं अपने कौशल को सुधारने पर काम करूंगा और जैसा की मैंने कहा है कि ये एक टीम वर्क है.’

धोनी के बिना अपनी गेंदबाजी पर पड़ने वाले असर के बाद कुलदीप ने लार के इस्तेमाल पर बैन के बारे में बात की और कहा, ‘जब आप गेंद पर अच्छी चमक लगाते हैं तो स्पिनर के लिए गेंद ड्रिफ्ट कराने में मदद मिलती है. तेज गेंदबाजों को भी मुश्किल होगी. हम गेंद पर लार तो बचपन से ही लगाते रहे हैं और इसलिए उस आदत को बदलना भी चुनौती होगी.’

इस इंटरव्यू के दौरान कुलदीप ने अपने टीममेट युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) के साथ अपनी जुगलबंदी के बारे में भी बात की और कहा, ‘कलाई से गेंद को स्पिन कराना आसान काम नहीं है. मेरे और युजवेंद्र चहल के बीच अच्छा तालमेल है लेकिन वर्ल्ड कप के बाद से हम दोनों साथ नहीं खेल सके. यह सब टीम कॉम्बिनेशन और सिलेक्शन पर निर्भर करता है. आपको टीम की जरूरतों के हिसाब से ही खुद को ढालना पड़ता है.’