Breaking News नई दिल्ली बड़ी खबर

नई दिल्ली:- CBI या ​SIT से जांच की मांग,सुप्रीम कोर्ट पहुंचा विनायकी की मौत का मामला

नई दिल्ली: केरल में गर्भवती हथिनी की मौत का मामला देश की सबसे बड़ी अदालत में पहुंच गया है. सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है जिसमें कोर्ट की निगरानी में मामले की जांच की सीबीआई या एक विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने की मांग की गई है. याचिका एक वकील ने खुद दायर की है.

ये भी देखें –  पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा नए केस,देश में कोरोना के केस ढाई लाख के पार

याचिका में कहा गया है कि हथिनी की मौत पटाखों से भरे अनानास को खाने की वजह से हुई जो कि बेहद दुखद, क्रूर और अमानवीय कृत्य है. इससे पहले केरल के कोल्लम जिले में अप्रैल 2020 में भी इसी तरह एक हथिनी की मौत हो गई थी.

ताजा मामले में पिछले बुधवार हथिनी की मौत हुई थी जिसने पटाखों भरा अनानास खा लिया था. ये अनानास कुछ स्थानीय लोगों द्वारा दिया गया था. हथिनी खाने की तलाश में जंगल से बाहर पास के गांव में चली गई थी. वह गांव की सड़कों पर घूम रही थी और तभी वहां के कुछ लोगों ने उसे पटाखों से भरा हुआ अनानास खाने के लिए दिया. हथिनी के मुंह में ही यह अनानास फट गया, जिसकी वजह से हथिनी का मुंह बुरी तरह से जख्मी हो गया. अनानास में डाले गए पटाखे इतने खतरनाक थे कि उसकी जीभ और मुंह बुरी तरह से जख्मी हो गए. हथिनी गांवभर में दर्द और भूख के मारे घूमती रही और अपनी चोट की वजह से वह कुछ खा भी नहीं पा रही थी.

इस बारे में एक वन अधिकारी मोहन कृष्णन्न ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘हथिनी ने सब पर भरोसा किया. जब उसके मुंह में वो अनानास फटा होगा तो वह सही में डर गई होगी और अपने बच्चे के बारे में सोच रही होगी, जिसे वह 18 से 20 महीनों में जन्म देने वाली थी.’

उन्होंने आगे लिखा, ‘उसने किसी भी इंसान को नुकसान नहीं पहुंचाया, तब भी नहीं जब वो बहुत ज्यादा दर्द में थी. उसने किसी एक घर को भी नहीं तोड़ा. इस वजह से मैं कह रहा हूं कि वह बहुत अच्छी थी.’

आखिर में वह वेलिन्यार नदी में जाकर खड़ी हो गई. वन विभाग के ऑफिसर ने कहा कि उसने ऐसा इसलिए किया होगा ताकि मक्खियां उसके घाव पर न बैठें. मोहन कृष्णन्न ने लिखा, ‘वन विभाग अपने साथ दो हाथियों को लेकर गया जिनका नाम सुंदरम और नीलकांतम है. ताकि उसे नदी से बाहर निकाल सकें लेकिन उसने किसी को अपने नजदीक नहीं आने दिया.’ अधिकारियों द्वारा कई घंटों तक कोशिश किए जाने के बाद भी वह बाहर नहीं आई और 27 मई को दोपहर 4 बजे पानी में खड़े-खड़े उसकी मौत हो गई.

बता दें कि ज़ी न्यूज विनायकी को न्याय दिलाने के मुहिम चलाई हुई है. इस मुहिम का ही असर था कि हथिनी की मौत के बाद एक आरोपी को तुरंत पकड़ा गया. पुलिस ने इस मामले में अपनी जांच भी तेज कर दी है.