Breaking News गुजरात नई दिल्ली बड़ी खबर

नई दिल्‍ली- कांग्रेस को गुजरात में भी विधायकों के टूटने का सता रहा है डर करनी पड़ रही है बड़ी मशक्कत

नई दिल्‍ली, 15 मार्च: मध्य प्रदेश के बाद गुजरात में भी कांग्रेस को विधायकों के टूटने का डर लगा हुआ है। ऐसे में विधाय़कों को एकजुट रखने के लिए गुजरात कांग्रेस को मशक्कत करनी पड़ रही है। राज्यसभा चुनाव के मद्देनजर गुजरात से 14 कांग्रेसी विधायकों को जयपुर शिफ्ट कर दिया गया है। माना जा रहा है कि राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग से बचने के लिए कांग्रेस ने ये ऐहतियाती कदम उठाया है। गुजरात की 4 राज्यसभा सीटों के लिए 26 मार्च को वोटिंग होनी है।

बीजेपी के गुजरात राज्यसभा चुनाव के लिए तीसरा उम्मीदवार मैदान में उतारे जाने के साथ कांग्रेस की धड़कनें बढ़ गई हैं। कांग्रेस को डर है कि कहीं उसके विधायक भाजपा के पाले में न चले जाएं, इसलिए उसने शनिवार को अपने 14 विधायकों को इंडिगो फ्लाइट से राजस्थान के लिए रवाना कर दिया। वहीं पांच विधायक सड़क मार्ग से राजस्थान के लिए रवाना हो गए। अहमदाबाद हवाईअड्डे से जयपुर जाने वाले 14 विधायकों में लखाभाई भरवाड़ (वीरमगाम), पूनम परमार (सोजित्रा), जिनीबेन ठाकुर (वाव), चंदनजी ठाकुर (सिद्धपुर), रित्विक मकवाना (चोटिला), चिराग कालरिया (जामजोधपुर), बलदेवजी ठाकुर, नाथाभाई पटेल, हिम्मतसिंह पटेल, इंद्रजीत ठाकुर, राजेश गोहिल, अजितसिंह चौहान, हर्षद रिबादिया और प्रद्युम्न सिंह जडेजा शामिल हैं।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस विधायकों पर काफी दबाव है और भाजपा धन और बाहुबल से राज्यसभा चुनाव को प्रभावित करना चाहती है। आपको बता दें कि 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में भाजपा के पास 103, जबकि कांग्रेस के पास 73 विधायक हैं। राज्यसभा के उम्मीदवार को जीतने के लिए 37 वोटों की जरूरत होगी। दोनों पार्टियों के पास दो सीटें जीतने के लिए पर्याप्त ताकत है। कांग्रेस को उम्मीद है कि निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी उनके उम्मीदवार के लिए ही वोट करेंगे। राज्यसभा की चार सीटों में से फिलहाल भाजपा के पास तीन और कांग्रेस के पास 1 सीट है।