Breaking News नई दिल्ली बड़ी खबर स्वास्थ्य

नई दिल्‍ली:- बैक्‍टीरिया और वायरस के अंतर को समझिए,दवाएं खाकर कर सकते हैं भूल

नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस के डर से अगर आप दवाएं खा रहे हैं तो ये सबसे बड़ी भूल साबित हो सकती है. वैसे तो एंटीबॉयोटिक दवाएं रामबाण होती हैं लेकिन कोरोना वायरस का ये इलाज नहीं हैं. दरअसल इलाज से पहले आपको बैक्‍टीरिया और वायरस के अंतर को समझना होगा क्‍योंकि कई एंटीबॉयोटिक दवाएं वायरस के इलाज के लिए कारगर नहीं होती.

बैक्टीरिया यानी जीवाणु और वायरस यानी विषाणु का फर्क
साधारण भाषा में अगर हम आपको समझाएं तो आप इसे ऐसे समझिए कि बैक्टीरिया अच्छे और बुरे दोनों हो सकते हैं. आदतों की तरह. बैक्टीरिया हमारे शरीर का हिस्सा होते हैं. ये आंतों में रहते हैं. अच्छे बैक्टीरिया खाना पचाने में मदद करते हैं. जबकि बुरे बैक्टीरिया निमोनिया और टीबी जैसी बीमारियां दे सकते हैं. लेकिन वायरस हमेशा बुरे ही होते हैं. वायरस बैक्टीरिया पर हमला भी करते हैं.
बैक्टीरियल बीमारियों के इलाज में एंटीबॉयोटिक दवाएं काम आती हैं. दरअसल बैक्टीरिया को पहचान कर ही एंटीबॉयोटिक दवाएं बनाई जाती हैं. लेकिन वायरस की खासियत ये होती है कि उसको पहचानना या पकड़ना आसान नहीं है.
वायरस अपनी संरचना बदलते रहते हैं. हमारे शरीर के डीएनए के साथ छेड़छाड़ करते हैं और अपना स्‍वरूप बदल लेते हैं. इसीलिए वायरस से होने वाली यानी वायरल बीमारियों में लक्षणों का इलाज किया जाता है. हालांकि एंटी वायरल दवाएं भी होती हैं लेकिन वो कुछ ही मामलों में कारगर होती हैं. कुछेक जाने पहचाने वायरस के खिलाफ ही काम करती हैं. क्योंकि ज्यादातर वायरस अपनी शक्लें बदलते रहते हैं.
इसीलिए जब कभी आपको वायरल बुखार हो तो आराम की सलाह दी जाती है. स्वाइन फ्लू हो या डेंगू या कोरोना वायरस– ये सभी वायरल बीमारियां हैं. सबसे जरूरी बात ये है कि वायरस वाली बीमारियों में एंटीबॉयोटिक दवाएं खाने से कोई फायदा नहीं होता. हां नुकसान जरूर हो सकता है.
ऐसे में कहा जा सकता है कि यदि भविष्य में कभी वायरस जनित बीमारी हुई तो हो सकता है कि तब काम में आने वाली एंटीबॉयोटिक दवाएं आप पर काम ना करें. इसलिए कोरोना वायरस से डरिए नहीं. जानकारी और जागरूकता से खुद को बचाइए.