Breaking News पर्यटन पर्व बड़ी खबर बिहार

पटना – होली के बाद काम पर वापस लौटने वालों के लिए बड़ी मुसीबत ट्रेनों में बम्पर भीड़

होली के बाद कामकाजियों के लौटने से ट्रेनों में भीड़ बढ़नी शुरू हो गई है। बुधवार से अधिकतर दफ्तरों के खुलने की वजह से लोग सुबह से ही लोकल ट्रेनों में लदकर पटना पहुंचते दिखे। गुरुवार से ट्रेनों में और भी भीड़ बढ़ने के आसार हैं। लंबी दूरी की ट्रेनों में भारी वेटिंग लिस्ट होने की वजह से गुरुवार से टिकट खिड़कियों पर मारामारी मचेगी।
पटना से जाने वाली ट्रेनों में राजधानी एक्सप्रेस, संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस, राजेन्द्रनगर लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस, दानापुर पुणे, संघमित्रा समेत सभी ट्रेनों में लंबी वेटिंग लिस्ट से यात्री परेशान हैं। रेलवे प्रशासन ने तत्काल काउंटरों पर विजिलेंस के अधिकारियों की तैनाती भी की है। तत्काल टिकट को लेकर बुधवार की देर रात से ही पटना जंक्शन व आसपास के स्टेशनों पर यात्री जुटने लगे थे।
छोटे-छोटे रेलवे स्टेशनों से दलाली की तैयारी
यात्रियों की भीड़ को देखते हुए रेलवे ने बड़े स्टेशनों पर सतर्कता संदेश जारी किए हैं और दलालों पर पैनी नजर है। लेकिन टिकट दलाल छोटे स्टेशनों से टिकटों की कालाबाजारी की तैयारी में है। पटना, पाटलिपुत्र जंक्शन और राजेन्द्र नगर के अलावा फुलवारीशरीफ, बिहटा, पटना साहिब सहित अन्य स्टेशनों पर भी टिकटों के लिए मारामारी मचनी तय है।

पटना से पुणे और मुंबई के लिए चलेंगी होली स्पेशल ट्रेनें
पटना। होली के बाद परदेसियों के लौटने का सिलसिला शुरू हो गया है। पूर्व मध्य रेल की ओर से होली स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। ट्रेन नंबर 01104 पटना लोकमान्य तिलक स्पेशल ट्रेन 13 मार्च को उपलब्ध है। यह ट्रेन रात नौ बजे पटना से चलेगी और तीसरे दिन सुबह चार बजे लोकमान्य तिलक टर्मिनल पर पहुंचेगी। 01123 दानापुर पुणे होली स्पेशल 17 मार्च को पटना से सुबह 6.30 बजे चलेगी और अगले दिन शाम शाम 5 बजकर 10 मिनट पर पहुंचेगी। 03253 पटना-पुणे 12 मार्च को दिन दस बजे पटना से चलेगी और अगले दिन शाम छह बजकर 20 मिनट पर पुणे पहुंचेगी।
कम चले ऑटो यात्रियों की फजीहत
पटना। होली की खुमारी का असर राजधानी की सड़कों पर भी दिखा। बुधवार को इक्का-दुक्का ऑटो चले। ऑटो कम चलने से होली के बाद गांव से वापस आने वाले और प्रदेश जाने वाले लोगों को फजीहत उठानी पड़ी। पटना जंक्शन, बस स्टैंड सहित कई चौक-चौराहों पर यात्री सामान लिए बस और ऑटो का इंतजार करते दिखे। सबसे अधिक परेशानी ट्रेन से आने और जाने वाले को झेलनी पड़ी। मजबूरी में लोग पैदल ही जाते दिखे