Breaking News

पीएम मोदी ने किया इकोनॉमी के लिए बूस्टर डोज का ऐलान,मजदूर से लेकर उद्योगपतियों तक को राहत का ऐलान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट के दौर में इकोनॉमी को सहारा देने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के तगड़े बूस्टर डोज का ऐलान किया है. मंगलवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में पीएम मोदी ने बताया कि इस पैकेज से देश की इकोनॉमी को सहारा मिलेगा और दुनिया में भारत नेतृत्व करने की क्षमता हासिल कर सकेगा. पीएम ने कई सेक्टर में बोल्ड रिफॉर्म्स करने का ऐलान किया है. पीएम ने कहा कि कृषि से लेकर इन्फ्रास्ट्रक्चर, टैक्स तक सभी सेक्टर में सुधार किए जाएंगे.

पीएम मोदी ने कहा, ‘आज हमारे पास साधन हैं, हमारे पास सामर्थ्य है, हमारे पास दुनिया का सबसे बेहतरीन टैलेंट है, हम बेस्ट प्रोडक्ट बनाएंगे, अपनी क्वालिटी और बेहतर करेंगे, सप्लाई चेन को और आधुनिक बनाएंगे, ये हम कर सकते हैं और हम जरूर करेंगे.’

पीएम मोदी के ऐलान पर कांग्रेस का वार,MP कांग्रेस का ट्वीट- केवल 20 लाख करोड़?

उन्होंने कहा, ‘देश में डिमांड बढ़ाने के लिए, डिमांड को पूरा करने के लिए, हमारी सप्लाई चेन के हर स्टेक-होल्डर का सशक्त होना जरूरी है. हमारी सप्लाई चेन, हमारी आपूर्ति की उस व्यवस्था को हम मजबूत करेंगे जिसमें मेरे देश की मिट्टी की महक हो, हमारे मजदूरों के पसीने की खुशबू हो.’

एमएसएमई सेक्टर को मिलेगी राहत

पीएम मोदी ने कहा, ‘ये आर्थिक पैकेज हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु-मझोले उद्योग, हमारे MSME के लिए है, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है, जो आत्मनिर्भर भारत के हमारे संकल्प का मजबूत आधार है.’

किसानों-श्रमिकों को भी राहत

पीएम मोदी ने कहा, ये आर्थिक पैकेज देश के उस श्रमिक के लिए है, देश के उस किसान के लिए है जो हर स्थिति, हर मौसम में देशवासियों के लिए दिन रात परिश्रम कर रहा है.

मध्यम वर्ग को मदद

पीएम मोदी ने कहा, ‘ये आर्थिक पैकेज हमारे देश के मध्यम वर्ग के लिए है, जो ईमानदारी से टैक्स देता है, देश के विकास में अपना योगदान देता है.

उद्योग जगत को सहारा

पीएम मोदी ने कहा, ‘आर्थिक पैकेज भारतीय उद्योग जगत के लिए है जो भारत के आर्थिक सामर्थ्य को बुलंदी देने के लिए संकल्पित हैं. कल से शुरू करके, आने वाले कुछ दिनों तक, वित्त मंत्री जी द्वारा आपको ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ से प्रेरित इस आर्थिक पैकेज की विस्तार से जानकारी दी जाएगी.’

पीएम मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए बोल्ड रिफॉर्म की प्रतिबद्धता के साथ अब देश का आगे बढ़ना अनिवार्य है. अब सुधार के उस दायरे को व्यापक करना है, नई ऊंचाई देनी है.

पीएम मोदी ने बोल्ड सुधारों की बात करते हुए खेती से लेकर, इन्फ्रास्ट्रक्चर और टैक्स सुधारों तक की बात की. उन्होंने कहा, ‘ये सुधार खेती से जुड़ी पूरी सप्लाई चेन में होंगे, ताकि किसान भी सशक्त हो और भविष्य में कोरोना जैसे किसी दूसरे संकट में कृषि पर कम से कम असर हो. ये रिफॉर्म्स, राशनल टैक्स सिस्टम, सरल और स्पष्ट नियम-कानून, उत्तम इंफ्रास्ट्रक्चर, समर्थ और सक्षम ह्यूमन रिसोर्सेज और मजबूत फाइनेंशियल सिस्टम के निर्माण के लिए होंगे. ये रिफॉर्म्स, बिजनेस को प्रोत्साहित करेंगे, निवेश को आकर्षित करेंगे और मेक इन इंडिया के हमारे संकल्प को सशक्त करेंगे.’