Breaking News उत्तर प्रदेश साहित्य

प्रतापगढ़-बदन की मौत से किरदार मर नहीं सकता

(हास्य कवि बृजेश नारायण श्रीवास्तव तनहा को पेड़रिया में कवियों ने दी भावभीनी श्रद्धांजलि)
सांगीपुर, प्रतापगढ़। स्वतंत्र कविमंडल सांगीपुर के संरक्षक, हास्य विधा के आशुकवि स्वर्गीय बृजेश नारायण श्रीवास्तव तनहा को उनके पैतृक निवास ग्राम पेड़रिया में उनके त्रयोदशाह संस्कार के अवसर पर उपस्थित साहित्यकारों एवं क्षेत्र के संभ्रांत नागरिकों ने सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए उनके चित्र पर माल्यार्पण व पुष्पार्पण करके भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित किया।
जहां मंडल के अध्यक्ष अर्जुन सिंह ने तनहा जी को मंडल के लिए समर्पित साहित्य शिल्पी करार दिया वहीं, मंडल की अनुशासन समिति के वरिष्ठ सदस्य गुरु बचन सिंह बाघ ने अपनी रचना की पंक्तियां………
छुरी की धार से कट नहीं सकती चिराग की लौ ,
बदन की मौत से किरदार मर नहीं सकता।
प्रस्तुत करके श्रद्धा सुमन अर्पित किया।
मीडिया प्रवक्ता परशुराम उपाध्याय सुमन ने कहा……
श्रोताओं का राजदुलारा अपना तनहा चला गया।
जहां,मंडल के महामंत्री डॉ.अजित शुक्ल ने कहा कि………
कष्टों से छुटकारा पाकर अपने तनहा चले गए ।
मेरे मन से जब जाओगे तब हम मानेंगे।
वहीं, इंजीनियर प्रभाकर मिश्र ने कहा कि………
जीवन के अंतिम क्षणों तक जीवन को साहित्य में लगाए रखने वाला साथी हमने खो दिया।
युवा रचनाकार अब्दुल मजीद रहबर ने कहा…….
गुलशन सजा संवार के तनहा चले गये।
जहां जुआ कभी लवलेश यदुवंशी ने तन्हा जी को नवोदित कवियों के मसीहा और विलुप्त शब्दों को संजोने वाला शिल्पी बताया वहीं, हर्ष बहादुर सिंह हर्ष ने कहा कि. …..
हो गया आह्वान प्रभु का बुझ गई वो प्राण ज्योति।
जहां, जनपद रायबरेली से पधारे वरिष्ठ कवि निर्मल प्रकाश श्रीवास्तव ने कहा……..,
लोकप्रिय हास्य कविताओं के सिरमौर थे तनहा।
वही हास्य विधाओं के चर्चित रचनाकार मधुप श्रीवास्तव ने कहा कि…….
रह गई है दोस्त तेरी दास्तां, छोड़कर अपना जहां चल दिए हो कहां ।
जहां,रायबरेली से ही पधारे मंचों के कुशल संचालक नीरज पांडे ने तनहा जी को श्रेष्ठ कवि के साथ ही संवेदनशील, मिलनसार व्यक्तित्व का धनी बताया।
वहीं, मंडल के वरिष्ठ सदस्य डॉ कामतानाथ सिंह ने कहा कि तनहा जी द्वारा चलाई गई मुहिम साहित्य साधना की अलख जगाते रहेंगे। मंडल के होनहार कवि महादेव प्रसाद मिश्र बमबम ने कहा कि …….
मंडल के सौरभ श्रृंगार थे तनहा ।
कार्यक्रम में उपस्थित छतोह के पूर्व ब्लाक प्रमुख नरेंद्र बहादुर सिंह ने तनहा जी को साहित्य रचना एवं काव्य पाठ का अभूतपूर्व धनी बताया ।
कार्यक्रम में उपस्थित अन्य श्रद्धांजलि देने वालों में साहित्यकार रामबदन शुक्ल पथिक , नंदलाल तिवारी सहित पूर्व प्रधान राम बहादुर सिंह रेवली, पूर्व प्रधान पेड़रिया प्रेम नारायण शुक्ला, नेता श्याम लाल तिवारी, दीपेंद्र आदि तमाम क्षेत्रीय संभ्रांत जन रहे।रिपोटॅ,डा.आर.आर.पाण्डेय प्रतापगढ़।