Breaking News उत्तर प्रदेश

बहराईच-जनपद मे कलमकार हुआ खाकी शिकार मा. मुख्यमंत्री के आदेशो की धज्जियां उड़ाते हुये पत्रकारिता को बदनाम करने मे जुटी नानपारा पुलिस

उत्तर प्रदेश के जनपद बहराइच से बड़ी खबर

तीन पत्रकारों पर नानपारा पुलिस द्वारा फर्जी मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेजने का आरोप

प्रधान संपादिका ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर तीनो पत्रकारों को दोष मुक़्ति और नानपारा पुलिस पर उचित कार्यवाही करने के लिये की माँग।

माँग ना पूरा होने पर आत्महत्या करने की दी चेतावनी

प्रधान संपादिका ने नानपारा पुलिस पर लगया अवैध धन्धा कराने का आरोप।

प्रधान संपादिका ने एभी कहा कि इस सम्बन्ध मे फर्जी न्यूज़ प्रशारित करने
वाले पत्रकारों पर भी दर्ज होगा मानिहानि का मुकदमा

उत्तर प्रदेश। प्रधान संपादिका नूर सबा ने मुख्यमंत्री को भेजे गये पत्र मे कहा है की जनपद बहराइच के नानपारा कोतवाली द्वारा तीन पत्रकार
जैसे-
1- मो. समीर खान
एक अन्य पत्रकार
गुड्डू अंसारी
पर जो फर्जी मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेजा गया और पत्रकारों से दुर्व्यवहार किया गया उसका सुबूत नानपारा पुलिस अवगत कराएं।
सुबूत ना मिलने पर इन पुलिस-प्रशासन पर उचित कार्यवाही करते हुये तीनो पत्रकारों को दोष मुक़्ति किया जाये।
2- नानपारा पुलिस द्वारा जो अवैध धन्धा कराया जा रहा है उसे बन्द कराया जाये।
जैसे-
गाय और भैसा सप्लाई
गान्जा,स्मैक,चर्स,अफीम सप्लाई
अवैध कच्ची शराब भट्ठियाँ
अवैध सफेद बालू खनन व जुआ अड्डा।

नानपारा पुलिस द्वारा जो भैसा और गाय सप्लाई कराया जा रहा था उसी सम्बन्ध मे तीनो पत्रकारों ने कोतवाली नानपारा के हाड़ा बसेहरि के पास स्थित नहर पर गाय और भैसा से भरे दो वाहनो को रोककर उसका वीडियो और फोटो खीच कर और भैसा व गाय कारोबारीयो द्वारा जो फर्जी रशीद पशु बाजार से बनवाया गया था उसका भी फोटो खीचा था।
कुछ ही देर मे उन गाय और भैसा कारोबारीयो को बचाने के लिये नानपारा कोतवाली से एस आई सुधीर शुक्ला और चन्द्र पाल यादव अपने तीन अन्य पुलिस कर्मी के साथ मौके पर पहुच कर तीनो पत्रकारों को हिरासत मे लेकर गाय से भरी वाहन को मौके से भगा दिया जिसकी फोटो पत्रकारों के कैमरे मे कैद हो गई और भैसा से भरे एक पिकअप व तीनो पत्रकारों
को नानपारा पुलिस कोतवाली लाकर भैसा व गाय सप्लाई करने वाले कारोबारीयो से साठगांठ करके तीनो पत्रकारों पर फर्जी तरीके से धारा 384,342,323 आइपीसी पंजीकृत कर जेल भेज दिया और भैसा और गाय कारोबारीयो को
कोतवाली से छोड़ दिया।
हमारे पत्रकारों ने गाय और भैसा सप्लाई करने वाले कारोबारीयो से पशु बाजार की रशीद मांगा गया तो कारोबारीयो ने सिर्फ दो भैसा खरीद का रशीद दिखाया जो फर्जी रशीद था उस रशीद पर पशु बाजार के मैनेजर का मुहर और सिक्नेचर नही था और गाय खरीद का कोई रशीद नही था इन कारोबारीयो ने जो रशीद हमारे पत्रकारों को दिखाया उसका फोटो हमारे पत्रकारों ने कैमरे मे कैद कर लिया।
गिरफ़्तार करने वाले पुलिस कर्मी एस आई सुधीर शुक्ला और चन्द्र पाल यादव ने पत्रकार मो. समीर खान का मोबाइल मौके पर ही ले लिया था।
अब हमारे पत्रकार मोबाइल माँग रहे है तो यादव कह रहे है की दिवान विनय के पास है और जब दिवान विनय से मोबाइल मांगा जा रहा है तो दिवान विनय कह रहे है की मोबाइल कोतवाल साहब के पास है जब कोतवाल साहब से मोबाइल मांगा जा रहा है तो कोतवाल साहब कह रहे है की मोबाइल गिरफ़्तार करने वाले पुलिस कर्मियों के पास है। अब आप खुद सोचिए की इन लोग मोबाइल क्यू नही दे रहे है।इस लिये की उस मोबाइल मे इन पुलिस कार्मियो के खिलाफ इतनी सुबूत है कि मोबाइल दे देने पर इन पुलिस कर्मियों पर भी कार्यवाही हो जायेगी और इन तीनो पत्रकार दोष मुक़्ति साबित हो जायेंगे।