Breaking News नई दिल्ली बड़ी खबर

भागदौड़ से मिलेंगी राहत, अब ऑनलाइन होगी वरासत

**

वरासत के लिए अब लेखपाल व दूसरे राजस्व कर्मियों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेगे। आने वाले 15 मार्च के बाद प्रदेश में वरासत की प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन होगी। शासन की ओर से आयुक्त एवं सचिव राजस्व परिषद ने इसका आदेश जारी कर दिया है। आदेश में साफ किया गया है कि ऑफलाइन वरासत का कोई भी मामला प्रकाश में आने पर संबधित अधिकारी, कर्मचारी के साथ पर्यवेक्षण्ीय अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाई होगी। खाता धारक की मृत्यु के महीनों नहीं सालों बीत जाने के बाद भी राजस्व कर्मियों की लापरवाही के चलते जमीन व मकान की वरासत नहीं हो पा रही है। वहीं आफ लाइन वरासत होने के चलते आए दिन लेखपाल व दूसरे राजस्व कर्मियों पर गलत वरासत करने के आरोप भी लगते रहते हैं। ऑनलाइन वरासत से मिलेंगी सभी को राहत, नहीं हो पाएगा खेल : ऑफलाइन वरासत बंद होने और ऑनलाइन शुरू होने से सभी को राहत मिलेगी। ऑफलाइन फार्म भरने के साथ प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। जो पूरी तरह से पारदर्शी रहेगी। फाइल कहां और कब से रुकी हुई है। सब दिखेगा। आवेदक को कोई बेवजह परेशान नहीं कर पाएगा। ऑफलाइन में राजस्व कर्मियों के साथ मिलकर जो खेल होता था। उस पर भी पूरी तरह से विराम लग जाएगा।
*पहले भी जारी हुआ था आदेश :*
ऑनलाइन वरासत शुरू करवाने के लिए दो साल पहले 29 अक्टूबर 2018 को भी राजस्व परिषद द्वारा आदेश जारी किया था। लेकिन, उस आदेश पर अमल नहीं हुआ और सिस्टम पुराने ढर्रे पर ही चलता रहा।