Breaking News नई दिल्ली बड़ी खबर

राजस्थान में भी बन रहीं है मध्य प्रदेश जैसी स्थिति मँडरा रहा है गहलोत सरकार पर खतरा

नई दिल्ली: राजस्थान में कांग्रेस सरकार पर खतरा मंडर रहा है। यहां भी मध्य प्रदेश जैसी स्थिति बन रही है। इस बीच शुक्रवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधायकों के साथ अहम बैठक करेंगे। बैठक के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, डिप्टी सीएम सचिन पायलट, कांग्रेस महासचिव अविनाश पांडेय, राज्यसभा प्रत्याशी केसी वेणुगोपाल और प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। इसमें वह बीजेपी पर आरोप लगा सकते हैं।

बता दें कि राजस्थान में शिव विलास रिजॉर्ट में कांग्रेस विधायकों को रखा गया है। मामला बिगड़ता देख कांग्रेस नेतृ्त्व ऐक्शन आ गया है। कांग्रेस नेतृत्व ने रात में पार्टी महासचिव और राज्यसभा उम्मीदवार केसी वेणुगोपाल को जयपुर भेजा है। शिव विलास रिजॉर्ट में राजस्थान कांग्रेस को बचाने की कवायद जारी है। क्योंकि आशंका है कि कांग्रेस के 23 विधायक पाला बदल सकत हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक केसी वेणुगोपाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट में मतभेदों पर चर्चा की। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आरोप लगाया था कि कुछ विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं। उन्हें पैसे का ऑफर दिया जा रहा है। इसके कारण पार्टी ने विधायकों को रिजॉर्ट में रखा हुआ है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आरोपों के बाग सचिन पायलट के खेमे के विधायक भड़क गए हैं। सचिन पायलट के समर्थक विधायकों की मांग की कि किसके पास फोन आए हैं? यह बताना चाहिए, क्योंकि प्रतीत होता है कि अफवाह के बल पर माहौल बनाया जा रहा है। इसके बाद अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने बैठक की है।

ये है मामला

राजस्थान में तीन सीटों पर राज्यसभा चुनाव होना है। विधानसभा में सीटों के आधार पर दो पर कांग्रेस और एक सीट पर बीजेपी की तय थी। कांग्रेस ने केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी को मैदान में उतारा है। इस बीच बीजेपी ने बड़ा दांव चलते हुए दो उम्मीदवारों को खड़ा कर दिया। बीजेपी ने राजेंद्र गहलोत और ओंकार सिंह लखावत को चुनाव मैदान में उतारा है।

अब काग्रेस डर रही है कि बीजेपी अपने दूसरे उम्मीदवार की जीत के लिए पार्टी के विधायकों तोड़ सकती है। इसके बाद सभी कांग्रेस और समर्थन देने वाले विधायकों को शिव विलास रिजॉर्ट में शिफ्ट कर दिया गया है।