Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

श्रावस्ती- मिली सफलता,रंग लाया प्रयास,जांच के आदेश जारी : असलम राईनी

श्रावस्ती

■ उत्तर प्रदेश के देवीपाटन मंडल के स्वास्थ्य विभाग में मची खलबली मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

■ देवीपाटन मंडल के सभी जिलों के अस्पतालों में हुए घोटालों की जांच करेगी एस.आई.टी (S.I.T): असलम राईनी

■ ड्रग्स माफियाओं के भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए मुख्यमंत्री योगी जी ने उठाया कठोर कदम,भिनगा विधायक असलम राईनी के पहल से एस.आई.टी टीम गठित कर मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

■ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी ने भिनगा विधायक असलम राईनी के द्वारा विधानसभा में उठाए गए मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए ड्रग्स माफिया एवं अस्पतालों के भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए एस.आई.टी टीम का गठन किया है

■ देवीपाटन मंडल के स्वास्थ्य विभाग के ड्रग्स एवं एन.एच.एम माफिया कई वर्षों से कर रहे हैं अवैध दवाओं एवं अवैध स्वास्थ्य सामग्री का काला धंधा : असलम राईनी

■ स्वास्थ्य माफिया के दबाव में सी.एम.ओ व सी.एम.एस बिना कार्य कराए ही विभिन्न जनपदों में कर देते हैं करोड़ों का भुगतान पर धरातल पर कोई कार्य मौजूद नहीं : असलम राईनी

■ विधायक भिनगा को स्वास्थ्य मंत्री ने यह पूर्ण आश्वासन दिया कि यदि विभिन्न फर्मों का दुरुपयोग कर गलत तरीके से किसी भी जिले के सी.एम.ओ वा सी.एम.एस ने गलत भुगतान किया है तो उस पर कठोर कार्यवाही अवश्य करूंगा एवं फर्म को भी ब्लैक लिस्ट करूंगा

■ उत्तर प्रदेश विधानसभा सदन में बजट सत्र के दौरान भिनगा विधायक असलम राईनी ने विधानसभा में अपने प्रश्न के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग में खलबली पैदा कर दी थी और ड्रग्स माफियाओं एवं अस्पतालों के भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए स्वास्थ्य मंत्री एवं मुख्यमंत्री से एस.आई.टी टीम गठित कर जांच कराने की मांग करी थी…..

■ जिले में प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर हुए मेंटीनेंस कार्यों व दवाओं की खरीद में बरती गई अनियमितता की जांच एसआईटी की टीम करेगी। शासन ने एसआईटी का गठन कर उसकी जांच सौंप दी है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जल्द ही जिले में एसआईटी की टीम जांच के लिए आ जाएगी। जांच में ठेकेदार समेत कई विभागीय लोगों की गर्दन नप सकती है।

■ देवीपाटन मंडल के चारों जिलों बलरामपुर, गोंडा, बहराइच व श्रावस्ती में स्वास्थ्य केन्द्रों पर मेंटीनेंस कार्य व दवा सप्लाई में घोर अनियमितता की गई थी। जिले में भी कई स्वास्थ्य केन्द्रों पर मेंटीनेंस कार्य कागजों में दिखाकर भुगतान ले लिया गया था। दवाओं की खरीद-फरोख्त में जमकर भ्रष्टाचार हुआ था। बताया जाता है कि स्वास्थ्य विभाग के एक लिपिक के घर व रिश्तेदारों की फर्मों पर जिले में ऐसे कार्य कराए गए हैं। इन फर्मों को करोड़ों रुपए का भुगतान भी किया गया है। दवाओं की सप्लाई करने वाली फर्म विभाग के इसी लिपिक की पत्नी की बताई जा रही है। अभी पिछले दिनों लिपिक से जुड़ी फर्मों सृष्टि फार्मा, राशि इंटरप्राइजेज, एसएम कांटीजेंसी सर्जिकल, यूपी मेडिसिन, आरपी कंस्ट्रक्शन एंड कंपनी, हिन्दुस्तान ड्रग्स एंड फार्मासुटिकल्स कंपनी व श्री इंटरप्राइजेज द्वारा कराए गए कार्यों व इन फर्मों को किए गए फर्जी भुगतान का मुद्दा विधानसभा में गूंजा था।

■ विधायक भिनगा असलम राइनी ने इस संबंध में शिकायती पत्र सीएम योगी को सौंपा था। विधायक ने भ्रष्टाचार के आरोपी लिपिक व उससे जुड़ी फर्मों के हुए भुगतान से संबंधित मामलों की शिकायतें सीएम से की थी। जिसे गंभीरता से लेते हुए शासन ने इसकी जांच एसआईटी को सौंपी है।एसआईटी ने शुरू कर दी पड़ताल….