Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जेल में बंद समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी,अब हिस्ट्रीशीटर भी घोषित कर दिए गए हैं

बलरामपुर. उत्तर प्रदेश के बलरामपुर
जेल में बंद समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी पर पुलिस का शिकंजा कसता जा रहा है. पूर्व विधायक अब हिस्ट्रीशीटर भी घोषित कर दिए गए हैं. सादुल्लाह नगर थाने की पुलिस ने पूर्व विधायक और इनके चार भाइयों की हिस्ट्रीशीट खोल दी है. सपा के पूर्व विधायक और इनके भाइयों को अब लगातार पुलिस की निगरानी में रहना पड़ेगा. कुछ दिन पूर्व जिला प्रशासन ने पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी को भू माफिया गैंग का लीडर घोषित किया था. भू-माफिया गैंग के सदस्य के तौर पर पूर्व विधायक के चार भाई शामिल है और इन सभी लोगों की हिस्ट्रीशीट भी सादुल्लाह नगर थाने में खोल दी गई है.

जिन लोगों की हिस्ट्रीशीट सादुल्लाह नगर थाने में खोली गई है उनमें पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी के अलावा इनके 4 भाई मारूफ अनवर हाशमी, आबिद अनवर हाशमी, फरीद अनवर हाशमी और निजामुद्दीन शामिल है. पूर्व विधायक के यह सभी भाई भू-माफिया गैंग में सदस्य के तौर पर भी शामिल है. गौरतलब है कि कूटरचित दस्तावेजों के सहारे धोखाधड़ी कर सरकारी और निजी जमीनों पर कब्जा करने के मामले में पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी और उनके भाइयों व अन्य सहयोगियों पर विभिन्न थाना क्षेत्रों में कुल 11 मुकदमे पंजीकृत किए गए जा चुके हैं. इनमें से 9 मुकदमे 2 माह के अंदर दर्ज किए गए हैं.

5 सितंबर को पुलिस ने भेजा था जेल

वर्ष 2018 में रेहरा थाना क्षेत्र में धोखाधड़ी और हेराफेरी कर सरकारी जमीन कब्जा करने के आरोप में उतरौला तहसील के तत्कालीन एसडीएम जेबी सिंह ने एक मुकदमा दर्ज कराया था. इसी मामले में पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी को 5 सितंबर 2020 को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. तभी से पूर्व विधायक जेल में निरुद्ध है. पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी के खिलाफ 14 अक्टूबर 2019 को गोंडा जिले की खोडारे थाना क्षेत्र में भी सरकारी अभिलेखों में हेराफेरी कर जमीन कब्जाने का मुकदमा दर्ज हुआ था. इसके अलावा सादुल्लाह नगर थाने में कूटरचित दस्तावेजों के सहारे हेराफेरी कर सरकारी और निजी जमीन पर कब्जा करने के 6 मामले दर्ज हैं. सरकारी और निजी जमीन कब्जा करने के आरोप में ही 3 मुकदमे रेहरा बाजार थाना क्षेत्र में तथा एक मुकदमा कोतवाली उतरौला में दर्ज हैं. कोतवाली उतरौला में दर्ज मुकदमे में सरकारी और निजी जमीन कब्जा कर उसे डिग्री कॉलेज की जमीन में जबरन मिला लेने का आरोप लगाया गया है.
सरकारी अभिलेखों में हेराफेरी कर कब्जाई जमीन

पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी पर जितने भी मुकदमे दर्ज हुए हैं सभी सरकारी अभिलेखों में हेराफेरी करने और सरकारी बनने की जमीनों को हड़पने के मामले में दर्ज हुए हैं. राजस्व से जुड़े मामले होने के कारण जिला प्रशासन नहीं सभी मामलों की जांच के लिए राजस्व विभाग की टीम भी बनाई है जो पुलिस के साथ मामले की जांच कर रही है. पूर्व सपा विधायक के ऊपर ताबड़तोड़ मुकदमे दर्ज होने से उनकी मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. इसके साथ ही भू माफिया गैंग लीडर और फिर हिस्ट्रीशीट खोले जाने से पूर्व विधायक की मुश्किलें और भी बढ़ गई हैं. पुलिस और प्रशासन की निगाह अब उनकी परिसंपत्तियों पर हैं जो सरकारी अभिलेखों में हेराफेरी और धोखाधड़ी करके जबरन हाथियाई गई हैं. गौरतलब है कि आरिफ अनवर हाशमी 2007 में सादुल्लाह नगर विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के विधायक थे. परिसीमन के बाद 2012 में उतरौला विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के विधायक चुने गए थे. एसपी देव रंजन वर्मा ने बताया की वृहद आपराधिक इतिहास को देखते हुए पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी और उनके चार भाइयों की हिस्ट्रीसीट सादुल्लाह नगर थाने में खोली गई है. उन्होंने कहा कि पुलिस इनके अपराधिक कार्यों पर लगातार निगरानी रखे हुए हैं.