Breaking News उतराखंड बड़ी खबर

उत्तराखंड: जब शादी में दूल्हा-दुल्हन और मेहमानों से संस्कृत में ली कोरोना से रक्षा की शपथ

बागेश्वर. शादी-विवाह में संस्कृत में मंत्रोच्चार (Sanskrit Chanting) तो आपने सुना ही होगा, लेकिन क्या कभी किसी शादी समारोह (Wedding ceremony) में संस्कृत में कोरोना की शपथ लेते हुए किसी को देखा है? आप यकीन नहीं करेंगे, लेकिन उत्तराखंड (Uttarakhand) में ऐसा ही एक माजरा देखने को मिला है. प्रदेश के बागेश्वर जिले में पुलिस के एक आला अफसर ने शादी समारोह के दौरान कोरोना नियमों की जांच पड़ताल के बीच दूल्हा-दुल्हन और वहां आए सभी मेहमानों से संस्कृत में कोरोना से रक्षा की शपथ (Covid-Safety Pledge) दिलवाई.

दरअसल, बीते दिनों बागेश्वर जिले के पुलिस अधीक्षक मणिकांत मिश्रा Bageshwar SP) एक शादी में अचानक ही कोरोना प्रोटोकॉल की जांच करने पहुंच गए. वे यहां देखने आए थे कि शादी में कोरोना को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का पालन हो रहा है या नहीं. इसी दौरान एसपी मणिकांत मिश्रा ने समारोह में उपस्थित सभी मेहमानों और दूल्हा-दुल्हन व उनके परिजनों से कोरोना सुरक्षा की शपथ लेने को कहा. एसपी ने खुद लोगों को शपथ दिलवाई. खास बात यह थी कि सभी लोगों ने संस्कृत भाषा में यह शपथ ली. ऐसा लग रहा था कि जैसे सामूहिक रूप से मंत्रोच्चार हो रहा हो.

इसलिए वे शादी के दिन समारोह स्थल पर पहुंचे थे
बागेश्वर के एसपी मणिकांत मिश्रा ने संस्कृत में कोरोना सुरक्षा की शपथ दिलवाने के पीछे की वजह विस्तार से बताई. उन्होंने कहा कि दुल्हन के पिता ने जब उन्हें शादी के बारे में बताया था, उन्होंने तभी कोरोना से जुड़े दिशा-निर्देशों की उन्हें ताकीद की थी. सरकार द्वारा जारी शादी समारोह को लेकर गाइडलाइन के बारे में भी दुल्हन के पिता को बताया गया था. एसपी ने यह भी कहा था कि वह इस बात की आकर जांच भी करेंगे. इसलिए वे शादी के दिन समारोह स्थल पर पहुंचे थे.
घराती-बाराती के सभी लोगों ने उसे दोहराया

एसपी मणिकांत मिश्रा ने बताया कि शादी के दिन जब वे समारोह स्थल पर पहुंचे तो वहां बड़ी संख्या में लोग जुटे हुए थे. पंडित शादी कराने में व्यस्त थे. इसी दौरान एसपी के साथ आए पुलिसकर्मियों ने वहां मौजूद दूल्हा-दुल्हन और उनके परिजनों समेत सभी मेहमानों के हाथ में एक पंपलेट दिया, जिसमें कोरोना से सुरक्षा के मंत्र लिखे थे. इसके बाद एसपी ने कोरोना-सेफ्टी की शपथ पढ़नी शुरू की और वहां मौजूद घराती-बाराती के सभी लोगों ने उसे दोहराया.