Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर राजनीति

UP Assembly Election: फूलन देवी के सहारे चुनाव मैदान में उतरेंगे मुकेश सहनी

VIP In UP Election: बिहार सरकार के मंत्री मुकेश सहनी कहते हैं कि फूलन देवी हमारी आदर्श रही हैं. यूपी चुनाव के ठीक पहले उनका मानना है निषादों के लिए संविधान में जो आरक्षण के प्रावधान है उसे लागू करना चाहिए.

पटना. उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए बिहार सरकार के मंत्री और वीआईपी पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी (Bihar Minister Mukesh Sahni) ने खास तैयारी की है. दस्यु सरगना रही फूलन देवी के 20 बड़े पुतले बनवाये गए हैं. फूलन देवी (Fulan Devi) फतेहपुर सीट से समाजवादी पार्टी की सांसद भी रहीं थीं और अब फूलन देवी के नाम पर चुनाव में जाने की तैयारी में वीआईपी (VIP Party) पार्टी है. उत्तर प्रदेश के सभी प्रमंडलों में फूलन देवी के पुतले लगाने की की तैयारी मुकेश सहनी पटना के सरकारी आवास पर चल रही है.

यहां बड़ी संख्या में कारीगर फूलन देवी के पुतले बनाने में जुटे हैं. दरअसल यूपी के चुनाव में निषाद वोटों को एकजुट करने की मुकेश सहनी तैयारी कर रहे हैं. हाल में उत्तर प्रदेश में मुकेश सहनी ने अपने दल को लांच किया है. बिहार सरकार के मंत्री मुकेश सहनी का कहना है कि वो दिल्ली जाना चाहते हैं और दिल्ली का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है, इसलिए यूपी विधानसभा चुनाव में पूरे दमखम के साथ चुनावी मैदान में उतरना चाहते हैं.

पिछले दिनों उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पहुंच मुकेश साहनी ने यूपी में वीआईपी पार्टी के विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया था. अब इसी को देखते हुए मुकेश सहनी यूपी में अपनी गतिविधि को और तेज करना चाहते हैं. उनका कहना है कि हम अभी भी मानते हैं कि फूलन देवी हमारी सोच में जिंदा है. मैंने हमेशा फूलन देवी को आदर्श माना है. 25 जुलाई को फूलन देवी की शहादत दिवस पूरे उत्तर प्रदेश में वीआईपी पार्टी मनाएगी और हम प्रमंडल में उनकी आदमकद प्रतिमा लगाई जाएगी.

यूपी चुनाव के लिए मुकेश सहनी द्वारा बनवाई गई फूलन देवी की प्रतिमा

यूपी चुनाव के बहाने मुकेश सहनी ने एक बार फिर से आरक्षण की मांग तेज कर दी है. उनका मानना है निषादों के लिए संविधान में जो आरक्षण के प्रावधान है उसे लागू करना चाहिए. देश के कई राज्यो में निषाद समाज को आरक्षण दिया गया है. दिल्ली, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में निषादों को आरक्षण दिया है. हम चाहते हैं बिहार उत्तर प्रदेश और झारखंड में भी निषाद को संविधान के दायरे में रहकर सरकार आरक्षण दें. बिहार में निषाद को आरक्षण मिले इसके लिए मैंने बिहार के राज्यपाल से भी मुलाकात कर अपनी मांग उनके सामने रखी है. मुकेश सहनी ने कहा कि केंद्र सरकार हमारी मांगों को नहीं सुन रही है इसीलिए हम अपनी ताकत बढ़ाकर दिल्ली पहुंचना चाहते हैं .