Breaking News उतराखंड

उत्तराखंड में दो महिलाओं का शिकार करने वाला गुलदार बना गोली का निशाना

देवप्रयाग. पिछले एक हफ्ते में एक आदमखोर गुलदार ने विधानसभा क्षेत्र के हिंडोलाखाल ब्लॉक में आतंक मचाया था. दो लोगों को शिकार बनाने के साथ ही एक व्यक्ति को घायल कर देने वाले आदमखोर गुलदार को आखिरकार शिकारियों ने मौत की नींद सुला दिया. बताया जाता है कि आदमखोर गुलदार हिंडोलाखाल ब्लॉक के छाम और दुरोगी गांव में दो महिलाओं को शिकार बना चुका था. इस गुलदार से निपटने के लिए वन विभाग ने शिकारियों की तैनाती की थी, लेकिन दहशत उस वक्त और बढ़ गई थी, जब इस दस्ते की मौजूदगी के बीच गुलदार ने दूसरा शिकार किया था.

क्षेत्र में आतंक का पर्याय बने आदमखोर गुलदार ने विगत 18 जुलाई की शाम को छाम गांव में एक महिला को अपना शिकार बना लिया था जबकि 15 जुलाई को दुरोगी में भी एक महिला को हमलाकर घायल कर दिया था. क्षेत्र में खौफ का कारण बने नरभक्षी ने मंगलवार सुबह भी दुरोगी गांव में 50 वर्षीय महिला को अपना शिकार बना लिया था. स्थानीय लोग बताते हैं कि इस घटना के बाद क्षेत्र में लोग घरों से बाहर निकलने से भी डरने लगे थे.

जब गुलदार ने किया दूसरा शिकार
एक महिला को शिकार और एक को जख्मी कर देने की घटनाओं के बाद वन विभाग ने एक शिकारी दल को तैनात किया था, लेकिन दल की मुसीबत उस वक्त बढ़ गई थी जबकि इलाके में उनके होते हुए आदमखोर गुलदार ने एक और महिला का शिकार कर लिया. क्षेत्र में आदमखोर गुलदार को ढेर करने के लिए तैनात शिकारी जहीर बख्श और के.एस. चौहान गश्त कर रहे थे, तभी जहीर बख्श ने नरभक्षी गुलदार को देखते ही गोली दागकर उसे ढेर कर दिया.

हालांकि पोस्टमार्टम के बाद पुष्टि हो सकेगी कि मारा गया गुलदार आदमखोर था या नहीं, लेकिन फिलहाल ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है. गुलदार के आदमखोर प्रमाणित होने तक शिकारी दल क्षेत्र में तैनात रहेगा. वहीं वनविभाग ने इलाके में और भी गुलदारों की मौजूदगी के कारण ग्रामीणों से आवाजाही के दौरान सतर्क रहने की सलाह दी है. बता दें कि पहाड़ों में तेंदुए को गुलदार कहा जाता है.