Breaking News राष्ट्रीय हरियाणा

आफत की बारिश: हरियाणा की मंडियों में ब्रिकी के लिए आया धान भीगा, खेतों में खड़ी फसल को भी नुकसान

अंबाला. बदलते मौसम की पहली बरसात (Rain) के कारण किसानों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ा है. बरसात से जहां एक ओर खेतों में खड़ी तैयार फसल भीगी, तो वहीं मंडी में ब्रिकी के लिए आई फसल भी भीग गई. अपनी फसल को यूं इस तरह बरसात में भीगा देख किसान (Farmers) परेशान हो गया. वहीं, सरकार द्वारा खरीदा गया धान जो बोरियों में भर कर रखा हुआ था वो भी भीग गया. मंडी के सचिव के मुताबिक, मंडियों में बोरियों में भरकर रखा हुआ धान के रखरखाव की जिम्मेवारी आढती की है. छावनी की अनाज मंडी (Anaj Mandi) में रविवार को अराइवल कम होने के कारण लिफ्टिंग का काम तेजी से चल रहा है.

वहीं, धान बेचने आए किसान ने बताया की सरकार ने शेड किसानों के लिए बनाए हैं, परंतु इसके नीचे सरकार द्वारा खरीदा गया धान रखा हुआ है. उन्होंने कहा कि हमें मजबूरन अपने धान को खुले में सुखाना पड़ता है. आज की बरसात में हमारा सारा धान जो सूखने के लिए डाला गया था भीग गया और हमारा काफी नुकसान हुआ है. इसका कारण सरकार की लेट खरीदारी शुरू करना है जिसका खामियाजा हम किसानों को भुगतना पड़ रहा है. यदि सरकार समय पर धान की खरीद शुरू कर देता तो किसानों को फायदा होता.

मंडी के आढ़ती का कहना है कि संडे को परचेज बंद होने के कारण ऑक्शन नहीं हो रही. इसका कारण है कि आज का दिन लिफ्टिंग ज्यादा हो. संडे को मंडी में अराइवल कम हो जाती है, इसलिए लिफ्टिंग की तरफ ज्यादा ध्यान दिया जाता है. आज की बरसात में ओपन में रखा हुआ धान को तिरपाल से कवर कर दिया था. अराइवल ज्यादा होने के कारण मंडी में धान रखने की जगह नहीं है. लिफ्टिंग से पहले से धूप लगाकर सुखा कर ही भेजा जाएगा इसमें कोई परेशानी वाली बात नहीं है.

धान भीग जाता है तो आढती के खिलाफ कार्रवाई

वहीं, अंबाला छावनी अनाज मंडी के सचिव का कहना है कि संडे खरीद नहीं होने के कारण लिफ्टिंग की जाती है. संडे को केवल लिफ्टिंग की तरफ ज्यादा ध्यान दिया जाता है ताकि मंडी में स्पेस बन सके. आज इनकमिंग गेट पास दिए जा रहे हैं, पर परचेंज नहीं हो रही. आज की बरसात के संबंध में मैंने निर्देश जारी कर दिए हैं ताकि किसी किसान का सामान भीग ना पाए. उन्होंने कहा कि खुले में रखा सामान आढ़तियों के द्वारा कवर किया जाता है. यदि कोई आढती लापरवाही करता है और धान भीग जाता है तो आढती के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.