Breaking News नई दिल्ली नयी दिल्ली बड़ी खबर

संविधान दिवस: दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल बोले- ‘आप’ के कार्यकर्ता संविधान की रक्षा करने के लिए काम करें

नई दिल्‍ली. आम आदमी पार्टी के गठन के नौ साल पूरे होने के मौके पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी से लोगों की उम्मीदें बढ़ी है. इसके साथ ही उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से संविधान (Constitution day of India) की रक्षा करने की दिशा में काम करने की अपील की है. यही नहीं, दिल्‍ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई दी है.

इसके अलावा दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने कहा कि संविधान दिवस पर हम साथ खड़े हैं. संविधान सरकार का नहीं है, देश का संविधान है. हमने अपनी पार्टी की स्थापना भी संविधान दिवस पर की थी. संविधान को हम मानते हैं और उसके अनुरूप काम हो उसके लिए हम प्रयास भी कर रहे हैं.

आम आदमी पार्टी के के संयोजक केजरीवाल ने 26/11 आतंकवादी हमले में शहीद हुए जवानों को भी श्रद्धांजलि दी और किसान आंदोलन के एक साल पूरा होने पर किसानों के जज़्बे को भी सलाम किया है. उन्‍होंने ट्वीट किया, ‘आज संविधान दिवस है. आम आदमी पार्टी को भी बने आज पूरे नौ साल हो गए हैं. हर गुजरते दिन के साथ देश के लोगों की उम्मीदें और विश्वास ‘आप’ पर बढ़ता जा रहा है. सभी ‘आप’ कार्यकर्ताओं से मेरी अपील है कि देश के संविधान की रक्षा और जनता की सेवा में हमें दिन-रात यूं ही मेहनत करते रहना है.’

वीर जवानों को सीएम ने किया नमन
दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल ने 26/11 आतंकवादी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि 26/11 के मुंबई हमले में जान की बाजी लगाकर देश की सेवा करने वाले हमारे वीर जवानों की अमर शहादत को, मैं श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं. अपने वीर शहीदों का ये देश हमेशा ऋणी रहेगा.

किसान आंदोलन पर कही ये बड़ी बात
मुख्यमंत्री अरिवंद केजरीवाल ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन के एक साल पूरे होने पर उन्हें बधाई दी. केन्द्र सरकार ने ये कानून पिछले सप्ताह वापस लेने की घोषणा कर दी थी.केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘आज किसान आंदोलन को पूरा एक साल हो गया है. इस ऐतिहासिक आंदोलन ने गर्मी-सर्दी, बरसात-तूफान के साथ अनेक साज़िशों का भी सामना किया. देश के किसान ने हम सबको सिखा दिया कि धैर्य के साथ हक की लड़ाई कैसे लड़ी जाती है. किसान भाइयों के हौसले, साहस, जज़्बे और बलिदान को मैं सलाम करता हूं.’