Breaking Newsबड़ी खबरमध्य प्रदेश

MP: शिवराज सरकार के मंत्री ने मुख्य सचिव के खिलाफ खोला मोर्चा, बोले- निरंकुश हो गए हैं

भोपाल. मध्य प्रदेश सरकार में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने अपनी ही सरकार के मुख्य सचिव के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. सिसोदिया ने अपने एक बयान में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस को निरंकुश करार दिया है. उन्होंने मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान की तारीफ करते हुए कहा कि प्रदेश वासियों का सौभाग्य है कि हम सबको शिवराज सिंह चौहान जैसे सीएम मिले हैं. वो सदा सीएम बने रहें ऐसी कामना है.

मंत्री सिसोदिया ने कहा सीएम इतने अच्छे हैं कि शायद उन जैसा कोई नहीं, लेकिन मुख्य सचिव इकबाल सिंह जैसे अधिकारी के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं. प्रशासन निरंकुश है और उसका आधार मैं मुख्य सचिव को ही मानता हूं. मेरी नाराजगी हर उस व्यक्ति से है जो डुप्लीकेसी से काम करता है. सिसोदिया के इस बयान के बाद सियासी तौर पर कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं.

एसपी से भी नाराजगी
इतना ही नहीं महेंद्र सिंह सिसोदिया ने शिवपुरी एसपी राजेश चंदेल से भी अपनी नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने शिवपुरी जिले में थाना प्रभारियों के तबादलों में उनकी रजामंदी नहीं लिए जाने पर नाराजगी जाहिर की. इतना ही उन्होंने इस नाराजगी को लेकर कलेक्टर को एक चिट्ठी भी लिखी. खास बात यह है कि जो चिट्ठी महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कलेक्टर को लिखी उसकी प्रतिलिपी मुख्यमंत्री या गृहमंत्री को भोजने के बजाए ज्योतिरादित्य सिंधिया के निज सचिव को भेजी है.

कौन हैं सिसोदिया ?
महेंद्र सिंह सिसोदिया मध्य प्रदेश सरकार में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री हैं. वह केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे के मंत्री कहे जाते हैं. सिंधिया के साथ ही सिसोदिया की भी बीजेपी में एंट्री हुई थी. वह शिवपुरी जिले के प्रभारी मंत्री हैं. यही वजह है कि उन्होंने थाना प्रभारियों के तबादलों में उनकी रजामंदी नहीं लिए जाने पर नाराजगी जाहिर की है. सिसोदिया की गिनती उन नेताओं में की जाती है जो कमलनाथ सरकार में बगावत करने वालों में सबसे आगे थे.

Related Articles

Back to top button