Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर बॉलीवुड

अयोध्या- शिवसेना के पूर्वी यूपी प्रमुख संतोष दुबे ने कंगना रनौत को बताया नचनियां

अयोध्या. बॉलीवुड (Bollywood) एक्ट्रेस कंगना रानौत (Kangana Ranaut) और महराष्ट्र (Maharashtra) की उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार के बीच जारी जंग राम नगरी अयोध्या (Ayodhya) तक पहुंच चुकी है. अयोध्या के संतों द्वारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे प्रवेश न देने के ऐलान पर शिवसेना (Shivsena) के पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रमुख संतोष दुबे (Santosh Dubey) ने कंगना रनौत को नचनियां बताते हुए कहा कि अच्छे संत नाचने गाने वालों का समर्थन नहीं करते.

उन्होंने योगी सरकार को तो आड़े हाथों लिया ही है, साथ ही अयोध्या के संतों को भी नहीं बख्शा. संतोष दुबे ने कहा कि कौन से संत हैं जो विरोध कर रहे हैं. विरोध करने वाले संत अपने गिरेबान में झांकें. पहले अपने आप को टटोले फिर उद्धव ठाकरे का विरोध करें. यह वही संत हैं जब उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे तो फोटो खिंचवाने के लिए और दक्षिणा लेने के लिए पीछे पीछे घूम रहे थे. अब विरोध की बात कर रहे हैं.

ब्राह्मणों की हत्या का उठाया मुद्दा
उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में लगातार ब्राह्मणों की हत्या हो रही है. इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार दोषी है तो क्या अयोध्या के संत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अयोध्या में नहीं घुसने देंगे. शिवसेना के पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रमुख संतोष दुबे ने कंगना रनौत को नचनियां बताया और कहा कि अयोध्या के अच्छे संत नाचने गाने वालों के बारे में कुछ नहीं बोलते. वह केवल राम मंदिर के लिए काम करते हैं. समाज के लिए काम करते हैं और भगवान का भजन करते हैं. लेकिन जो विरोध करने वाले संत हैं वे अच्छे प्रवृति के नहीं है.
ये है पूरा मामला

दरअसल अयोध्या हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास विश्व हिंदू परिषद ने ऐलान किया है कि भविष्य में यदि कभी उद्धव ठाकरे अयोध्या आए तो उनको प्रवेश नहीं दिया जाएगा. दरअसल पालघर कांड, सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या कांड व कंगना रनौत के घर को ढहाने के मामले में अयोध्या के संत नाराज चल रहे हैं. इससे पहले पालघर में हुई दो साधुओं की हत्या को लेकर भी अयोध्या के संत-महंत नाराज थे. इसी नाराजगी को लेकर हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास और विश्व हिंदू परिषद के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने कहा कि जब भविष्य में उद्धव ठाकरे अयोध्या आएंगे तो उन्हें अयोध्या में प्रवेश नहीं दिया जाएगा.