Breaking News Himanchal Pradesh बड़ी खबर

जमीन खरीद मामला: BJP OBC मोर्चा के उपाध्यक्ष ने अपनी ही सरकार की मंत्री सरवीण से मांगा इस्तीफा

धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश सरकार (Himachal Govt) में मंत्री और कांगड़ा के शाहपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक (MLA) सरवीण चौधरी (Sarveen Chaudhary) पर ज़मीन सौदों में गड़बड़ी के लगे आरोपों को मद्देनजर अब उनके अपने ही उनके विरोध में उतर आये हैं. मंत्री जी से नैतिकता के आधार पर इस्तीफ़ा देने तक की मांग की गई है.

सरवीण चौधरी के ख़िलाफ़ मोर्चा
कांगड़ा में ओबीसी बिरादरी से संबंध रखने वाले लोगों और भाजपा ओबीसी मोर्चा के उपाध्यक्ष एवं जिला परिषद कांगड़ा के पूर्व चेयरमैन देशराज बागी ने सरकार की मौजूदा मंत्री सरवीण चौधरी के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है. बागी ने ओबीसी श्रेणी से ताल्लुक रखने वालीं शाहपुर से विधायक और प्रदेश सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की मंत्री सरवीण चौधरी को नैतिकता के आधार पर इस्तीफ़ा देने की नसीहत दी है.

मंत्री को देना चाहिए इस्तीफा
इसके साथ ही शाहपुर हलके से भाजयुमो के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक राम रत्न पटाकू के भतीजे तिलक पटाकू ने कहा कि ये पहला मौका है, जो प्रदेश स्तर पर ओबीसी बिरादरी पर भ्र्ष्टाचार का लांछन लगा है. इससे पहले और मौजूदा हाल में भी राजनीतिक क्षेत्र में उनकी बिरादरी के कई विधायक और मंत्री हुये हैं, मगर उनमें से किसी एक पर भी इस तरह भू माफियाओं की मानिद जमीन खरीद फ़रोख़्त में घोटाले के आरोप नहीं लगे हैं. ऐसे में जो बिरादरी की छवि धूमिल हुई है, उसमें मंत्रीजी को स्वेच्छा से अपना त्याग पत्र देना चाहिये और इस मामले की जांच में शरीक होकर निष्पक्षता और संयम के साथ सहयोग करना चाहिए.

जमीन खरीद के हैं आरोप
पटाकू ने कहा कि मंत्रीजी जब तक इस संवैधानिक ओहदे पर रहेंगी, तब तक इस मामले की जांच में न्याय की गुंजाइश कतई नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा कि पूर्व विधायक और मंत्री विजय सिंह मनकोटिया ने ये आरोप लगाये हैं और मंत्रीजी ने खुद प्रेसवार्ता कर स्वीकारा है कि उन्होंने 515 कनाल ज़मीन की खरीद फ़रोख़्त की है. बता दें कि विवादों में घिरी सरवीण चौधरी हाल ही में दिल्ली भी गई थी और केंद्रीय नेतृत्व से मुलाकात भी की थी.