Breaking News उतराखंड बड़ी खबर

उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल में आया भूकंप, रिक्टर स्केल पर 3.4 मापी गई तीव्रता

टिहरी गढ़वाल- उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल इलाके में भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए गए हैं. नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (NCS) से मिली जानकारी के मुताबिक, मंगलवार शाम 6 बजकर 18 मिनट पर झटके महसूस किए गए. रिक्टर स्केल में भूकंप की तीव्रता 3.4 मापी गई है. फिलहाल किसी तरह की जनहानी की खबर नहीं है. इससे पहले 21 अगस्त को झारखंड (Jharkhand) में मध्‍यम दर्जें के भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. साहेबगंज में दोपहर बाद तकरीबन 12:07 बजे ये झटके महसूस किए गए. रिक्‍टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 4.3 मापी गई थी. हालांकि, इससे किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है. इससे पहले 5 जून को भी सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. उस वक्‍त तीव्रता 4.7 मापी गई थी. यह झटके जमशेदपुर में आए थे.

वहीं अरुणाचल प्रदेश में 20 जुलाई को पूर्वी कमेंग जिले में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 5.5 मापी गई थी. सुबह 4.24 बजे झटके महसूस किए गए थे. इससे पहले भी अरुणाचल प्रदेश में 5.6, 3.8 और 4.9 तीव्रता के तीन भूकंप आए थे. जानकारी के मुताबिक, अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी कामेंग जिले में 10 किमी की गहराई पर 5.62-तीव्रता का पहला भूकंप आया था. गुवाहाटी, असम के अन्य हिस्सों और नागालैंड के दीमापुर में भी झटके महसूस किए गए थे.
3.8 रिक्टर का दूसरा भूकंप और 4.9-तीव्रता का तीसरा भूकंप आया था.

बारिश से बेहार उत्तराखंड
बता दें कि चमोली जिले के पोखरी तहसील के ताली कंसारी गांव में सोमवार देर रात हुई भारी बारिश के चलते मलबा गांव की ओर आ गया. इसकी चपेट में आकर गांव का पंचायत भवन मलबे में बदल गया. इस पंचायत भवन में रह रहे एक व्यक्ति की मौत भी हो गई, जबकि चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए हैं.

ताली कंसारी गांव के ग्राम प्रधान रविंद्र सिंह के मुताबिक, देर रात सड़क निर्माण का कार्य कर रही कंपनी के 6 लोग खाना खाकर पंचायत भवन में सो रहे थे. तभी भारी बारिश के चलते पंचायत भवन के ऊपर मलबा आ गया. मलबा इतना ज़्यादा था कि भवन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. पंचायत भवन में सो रहे पांच लोगों को गंभीर चोटें आई.

इधर, बाबा केदारनाथ की भोग मंडी और मुख्य पुजारी आवास क्षतिग्रस्त हो गया है. उनमें बारिश का पानी टपक रहा है. इससे बचने के लिए मुख्य पुजारी आवास और बाबा की भोग मंडी की छत में तिरपाल डाला गया है.