Breaking News नई दिल्ली बड़ी खबर

किसानों को अब सोलर प्लांट और बायोगैस लगाने के लिए भी मिलेगा आसानी से लोन, RBI ने बदले नियम

रिजर्व बैंक (RBI-Reserve Bank of India) के नए नियमों का फायदा छोटे किसानों को भी मिलने वाला है. रिज़र्व बैंक के नए नियमों के तहत किसानों को सोलर प्लांट्स लगाने और कम्प्रेस्ड बायोगैस प्लांट्स के लिए आसानी से लोन मिल सकेगा. जानिए क्या हुए बदलाव
News18 Hindi | September 5, 2020, 8:47 AM IST
1/ 4 मुंबई. किसानों को अब सोलर प्लांट और कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र लगाने के लिए आसानी से लोन मिलेगा. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने प्राथमिकता क्षेत्र को कर्ज के लिए अपनी गाइडलाइंस बदल दी है. अब प्राथमिक क्षेत्र को दिए जाने वाले कर्ज के दायरे में स्टार्टअप सहित सौर संयंत्रों और कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र को लाया गया है. मुंबई. किसानों को अब सोलर प्लांट और कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र लगाने के लिए आसानी से लोन मिलेगा. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने प्राथमिकता क्षेत्र को कर्ज के लिए अपनी गाइडलाइंस बदल दी है. अब प्राथमिक क्षेत्र को दिए जाने वाले कर्ज के दायरे में स्टार्टअप सहित सौर संयंत्रों और कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र को लाया गया है.
मुंबई. किसानों को अब सोलर प्लांट और कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र लगाने के लिए आसानी से लोन मिलेगा. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने प्राथमिकता क्षेत्र को कर्ज के लिए अपनी गाइडलाइंस बदल दी है. अब प्राथमिक क्षेत्र को दिए जाने वाले कर्ज के दायरे में स्टार्टअप सहित सौर संयंत्रों और कंप्रेस्ड बायोगैस संयंत्र को लाया गया है.

2/ 4 आरबीआई ने कहा है कि नए दिशा-निर्देशों में प्रायोरिटी सेक्टर के तहत लोन दिए जाने में क्षेत्रीय असमानताओं को दूर करने की कोशिश की गई है. शोधित पीएसएल दिशानिर्देशों से कर्ज से वंचित क्षेत्रों तक ऋण की पहुंच को बेहतर किया जा सकेगा. इससे छोटे और सीमान्त किसानों तथा समाज के कमजोर वर्गों को अधिक कर्ज उपलब्ध कराया जा सकेगा. साथ ही इससे अक्षय ऊर्जा, स्वास्थ्य ढांचे को भी कर्ज बढ़ाया जा सकेगा. आरबीआई ने कहा है कि नए दिशा-निर्देशों में प्रायोरिटी सेक्टर के तहत लोन दिए जाने में क्षेत्रीय असमानताओं को दूर करने की कोशिश की गई है. शोधित पीएसएल दिशानिर्देशों से कर्ज से वंचित क्षेत्रों तक ऋण की पहुंच को बेहतर किया जा सकेगा. इससे छोटे और सीमान्त किसानों तथा समाज के कमजोर वर्गों को अधिक कर्ज उपलब्ध कराया जा सकेगा. साथ ही इससे अक्षय ऊर्जा, स्वास्थ्य ढांचे को भी कर्ज बढ़ाया जा सकेगा.
आरबीआई ने कहा है कि नए दिशा-निर्देशों में प्रायोरिटी सेक्टर के तहत लोन दिए जाने में क्षेत्रीय असमानताओं को दूर करने की कोशिश की गई है. शोधित पीएसएल दिशानिर्देशों से कर्ज से वंचित क्षेत्रों तक ऋण की पहुंच को बेहतर किया जा सकेगा. इससे छोटे और सीमान्त किसानों तथा समाज के कमजोर वर्गों को अधिक कर्ज उपलब्ध कराया जा सकेगा. साथ ही इससे अक्षय ऊर्जा, स्वास्थ्य ढांचे को भी कर्ज बढ़ाया जा सकेगा.

3/ 4 आसानी से मिलेगा 50 करोड़ रुपये का लोन-अब पीएसएल में स्टार्टअप को बैंकों से 50 करोड़ रुपये तक का कर्ज आसानी से मिल सकेगा. आसानी से मिलेगा 50 करोड़ रुपये का लोन-अब पीएसएल में स्टार्टअप को बैंकों से 50 करोड़ रुपये तक का कर्ज आसानी से मिल सकेगा.
आसानी से मिलेगा 50 करोड़ रुपये का लोन-अब पीएसएल में स्टार्टअप को बैंकों से 50 करोड़ रुपये तक का कर्ज आसानी से मिल सकेगा.

4/ 4 आरबीआई के मुताबिक इस पहल से नवीकरणीय ऊर्जा और हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में क्रेडिट फ्लो बढ़ेगा. आपको बता दें कि नवीकरणीय ऊर्जा और हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए लोन की सीमा को दोगुना तक बढ़ाया गया है. आरबीआई के मुताबिक इस पहल से नवीकरणीय ऊर्जा और हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में क्रेडिट फ्लो बढ़ेगा. आपको बता दें कि नवीकरणीय ऊर्जा और हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए लोन की सीमा को दोगुना तक बढ़ाया गया है.
आरबीआई के मुताबिक इस पहल से नवीकरणीय ऊर्जा और हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में क्रेडिट फ्लो बढ़ेगा. आपको बता दें कि नवीकरणीय ऊर्जा और हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए लोन की सीमा को दोगुना तक बढ़ाया गया है.