Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

लखनऊ: ED की पूछताछ में गायत्री प्रजापति के बेटे ने उगले राज, कई शेल कंपनियों से हुआ करोड़ों का ट्रांजेक्शन

लखनऊ. अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के शासनकाल में कैबिनेट मंत्री रहे गायत्री प्रजापति (Gayatri Prajapati) की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. एक हफ्ते जमानत से बाहर रहने के बाद वे एक बार फिर जालसाजी के मामले फंस गए हैं. इस बीच प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने गायत्री प्रजापति के बेटे अनिल प्रजापति (Anil Prajapati) पर भी शिकंजा कस दिया है. ईडी की पूछताछ में गायत्री के बेटे अनिल प्रजापति ने कई राज उगले हैं. कई शेल कंपनियों को लेकर अनिल से ईडी ने शुक्रवार को पूछताछ की. इस दौरान ईडी को शेल कंपनियों के साथ करोड़ों के ट्रांजेक्शन से जुड़े सबूत मिले. गायत्री प्रजा​पति के बेटे पर आरोप है कि उन्होंने शेल कंपनियों के जरिए मोहनलालगंज में करोड़ों की संपत्तियां खरीदी हैं. इसके अलावा खनन घोटाले के मामले में भी उनसे पूछताछ हुई.

गायत्री और उसके परिवार से जुड़ी 15 कंपनियों के मिले सुराग

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अवैध खनन से अर्जित धन से गायत्री प्रजापति ने महाराष्ट्र के पुणे में कई संपत्तियां खरीदी हैं. अब ईडी पुणे के रजिस्ट्री ऑफिस से दस्तावेज हासिल करेगी. इसके साथ ही शेल कंपनियों के साथ ट्रांजेक्शन के भी सबूत मिले हैं. गायत्री और उसके परिवार से जुड़ी 15 कंपनियों के सुराग ईडी को मिले हैं. 11 कंपनियां गायत्री प्रजापति के नाम पर बताई जा रही हैं. बाकी कंपनियां पत्नी और बेटे के नाम पर हैं.

बेटे की कंपनी ने लखनऊ में खरीदी करोड़ों की जमीन
इसके अलावा यह भी पता चला है कि बेटे की कंपनी एमजे कॉलोनाइजर्स ने लखनऊ में बड़ी ख़रीद की है. एमजे कॉलोनाइजर्स ने लखनऊ के मोहनलालगंज में 110 बीघा ज़मीन ख़रीदी. एक बीघे जमीन की कीमत एक करोड़ बताई जा रही है. गायत्री के बेटे पूछताछ के दौरान पुणे में महंगा रो- हाउस खरीदने की बात कबूलीहै. बता दें यूपी के कई जिलों में हुए खनन घोटाले से जुड़े मामलों की जांच ईडी कर रही है. गायत्री प्रजापति सपा सरकार में खनन मंत्री थे.