Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

कानपुर: बजरंग दल का हंगामा,शालिनी यादव से फिजा बनी युवती ने बताया- मर्जी से की फैसल से शादी

कानपुर- उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur) जिले में शालिनी यादव (Shalini Yadav) उर्फ़ फिजा के गौर समुदाय के लड़के शादी और धर्म परिवर्तन के मामले में राजनीति भी शुरू हो गई है. एक वीडियो वायरल कर शालिनी यादव उर्फ़ फिजा ने अपील की थी कि उन्होंने शादी अपनी मर्जी से की है. उनकी शादी को लव जिहाद न बताया जाए. लेकिन इस मामले में रविवार को सैकड़ों बजरंग दल (Bajrang Dal) कार्यकर्ता किदवई नगर थाने पहुंचे और आरोपी फैसल के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की.

सैकड़ों की संख्या में पहुंचे कार्यकर्ताओं को देख किदवई नगर थाना पुलिस (Police) के हाथ-पांव फूल गए और मौके पर अन्य थानों की पुलिस फोर्स को भी बुला लिया गया. इस पूरे मामले में बजरंग दल कार्यकर्ताओं का कहना है कि पुलिस जब तक फैसल के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती है तब तक उनका विरोध जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि फैसल जैसे लड़के लगातार हिंदू लड़कियों का धर्म परिवर्तन करा रहे हैं. जिसे बजरंग दल कतई बर्दाश्त नहीं करेगा.

29 जून को फरार हुई थी शालिनी
बता दें कानपुर के बर्रा थाने इलाके में रहने वाली शालिनी यादव की मुलाकात 6 साल पहले फैसल से हुई थी. फैसल की मुलाकात शालिनी से पहली बार घर के पास पार्क में हुई. दरअसल लड़की के घर के ठीक सामने ग्रीन बेल्ट बनी हुई है, जहां इलाके के तमाम लोग शाम को टहलने के लिए आते हैं. इसी पार्क में शालनी और फैसल का आमने सामना हुआ. करीब 2 साल बाद फैसल किदवई नगर में रहने चला गया. फैसल ने बीकॉम किया है और शालिनी ने एमबीए कंप्लीट किया है.
बीते 29 जून को बाजार जाने के बहाने घर से निकली शालिनी पहले लखनऊ पहुंची और वहां से सीधे गाजियाबाद के लिए रवाना हो गई. शालिनी ने फैसल से गाजियाबाद में पहले निकाह किया और फिर कोर्ट से रजिस्टर्ड मैरिज भी की. शालिनी ने जो वीडियो वायरल किया है, उसके अनुसार उसने अपना धर्म परिवर्तन करते हुए इस्लाम को कुबूल किया और निकाह किया. 22 साल की शालिनी लगभग 6 साल से प्रेम संबंधों में थी. इस बात की पुष्टि भी उसने वायरल वीडियो में की है.

वीडियो वायरल कर कहा मर्जी से की शादी और धर्म परिवर्तन

शालिनी का वीडियो वायरल होने के बाद जब न्यूज़ 18 की टीम शालिनी के घर पहुंची तो वहां पर एक शख्स ने खुद को उसका भाई बताया. उसने बताया की शालिनी के गायब होने की सूचना के बाद जब उन्होंने अपने स्तर से पूरे मामले को पता कराया तो पता चला कि फैसल उसे लेकर भाग गया है. इसके बाद पीड़ित परिजन किदवई नगर थाने पहुंचे जहां फैसल का घर भी है और लड़की भी वहीं से लापता हुई थी. लेकिन पीड़ितों के आरोप है कि पुलिस ने मामले में सुनवाई नहीं की और पीड़ित लगभग 1 सप्ताह तक थाने और चौकी के चक्कर काटते रहे.

इसके बाद वह एक जनप्रतिनिधि के पास पहुंचे जहां से पुलिस पर दबाव पड़ा और लड़की की गुमशुदगी को दर्ज किया गया. पुलिस जांच में जब शालिनी की लोकेशन निकाली तो इनका पता दिल्ली में निकला. जिसके बाद पुलिस ने दिल्ली पुलिस से संपर्क किया और लड़का लड़की को एक घर से बरामद कर लिया.

पुलिस ने भी कहा लड़की ने परिवार के साथ आने से किया इनकार

किदवई नगर थाने के जांच अधिकारी के अनुसार लड़की के पिता साथ में दिल्ली पहुंचे थे जहां पूरी रात बेटी और बाप आमने-सामने बैठे रहे. इस दौरान पिता ने बेटी पर वापस चलने के लिए काफी दबाव बनाएं, लेकिन उसने वापस न आने की कसम खाली थी. उसने बताया कि वह बालिग है और अपनी मर्जी से यह शादी कर चुकी है. घंटों की मशक्कत के बाद पुलिस और पिता दोनों ही कानपुर वापस लौट आए. इसके बाद एक वीडियो वायरल हुआ. युवती ने अपने ही भाई पर धमकी देने का आरोप लगाया और सुरक्षा की मांग भी की.