Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

लखनऊ – पूर्व मंत्री की बढ़ी मुश्किलें पीड़िता के वकील ने दर्ज कराई एक और FIR

सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे गायत्री प्रजापति के मामले में गुरुवार को फिर नया मोड़ आ गया है। अब पीड़िता के पूर्व वकील दिनेश चन्द्र त्रिपाठी ने गुरुवार को गाजीपुर थाने में गायत्री, पीड़िता और उसकी बेटी पर धोखाधड़ी और जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया है। वकील ने आरोप लगाया है कि जेल बंद रहते हुए गायत्री ने पीड़िता से साठगांठ कर ली। पीड़िता ने इसके बदले करोड़ों रुपये और प्लाट व मकान लिया है। साथ ही उनके साथ कई तरीके से धोखाधड़ी की है।

इंदिरानगर निवासी वकील दिनेश ने एफआईआर में लिखाया है कि गायत्री प्रजापति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के बाद चित्रकूट निवासी पीड़िता ने उन्हें अपना वकील नियुक्त किया था। पर, बाद में वह गायत्री से मिल गई और उनसे कहा कि वह कोर्ट में गायत्री प्रजापति की जमानत अर्जी का विरोध न करे ताकि वह बाहर आ जाये। साथ ही उसने इस मामले में समझौता भी करने की बात कही। जब उन्होंने विरोध किया तो पीड़िता ने उन्हें धमकी दी और कहा कि दुराचार का मुकदमे फंसा देंगे। साथ ही मेरी फीस और मेरे जरिये खरीदी गई टाटा सफारी गाड़ी का रुपया न देने की बात कही।

वकील ने यह भी आरोप लगाया कि गायत्री से मिलने के बाद पेशी पर आने-जाने का खर्चा पीड़िता को गायत्री के ही लोग दे जाते थे। मेरे लगातार विरोध करने पर पीड़िता ने चित्रकूट में उसके खिलाफ 2019 में एफआईआर करा दी थी जिसमें पुलिस ने अंतिम रिपोर्ट लगा दी थी। यही नहीं उसने सात जुलाई, 2019 को एक एफआईआर गौतमपल्ली थाने में भी करायी थी। गाजीपुर इंस्पेक्टर बृजेश कुमार सिंह का कहना है कि इस मामले में आईपीसी की धारा 420, 467,468,471 और 506 के तहत एफआईआर की गई है। इसकी जांच की जा रही है।