Breaking News उत्तर प्रदेश बड़ी खबर

वाराणसी: डोम राजा जगदीश चौधरी के निधन से पीएम मोदी दुखी, बोले- काशी की सनातन परंपरा के संवाहक रहे….

वाराणसी. काशी के डोम राजा जगदीश चौधरी (Jagdish Chaudhary) के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट किया है कि वाराणसी (Varanasi) के डोम राजा जगदीश चौधरी जी के निधन से अत्यंत दुख पहुंचा है. वे काशी की संस्कृति में रचे-बसे थे और वहां की सनातन परंपरा के संवाहक रहे. उन्होंने जीवनपर्यंत सामाजिक समरसता के लिए काम किया. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और परिजनों को इस पीड़ा को सहने की शक्ति दे.

बता दें 55 वर्ष के डोम राजा जगदीश चौधरी का मंगलवार सुबह 9 बजे निधन हुआ. उनकी कई महीनों से घाव के कारण हालत बिगड़ी हुई थी. जगदीश चौधरी 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रस्तावकों में शामिल रहे थे.

सीएम योगी ने भी जताया शोक

उधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी काशी के डोम राजा के निधन पर शोक जताया है. उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्तावक रहे आदरणीय डोम राजा जगदीश चौधरी जी का निधन. सादर नमन. डोम राजा केवल बनारस के लिए लिहाज से ही नहीं बल्कि आध्यात्म के लिहाज से भी महत्वपूर्ण हैं. हिंदू धर्म में छुआछूत समाप्त करने के उद्देश्य से महंत अवैद्यनाथ जी ने डोम राजा के घर साधुओं के साथ भोजन कर सहभोज की शुरु़आत की थी
वाराणसी के डोम राजा जगदीश चौधरी जी के निधन से अत्यंत दुख पहुंचा है। वे काशी की संस्कृति में रचे-बसे थे और वहां की सनातन परंपरा के संवाहक रहे। उन्होंने जीवनपर्यंत सामाजिक समरसता के लिए काम किया। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और परिजनों को इस पीड़ा को सहने की शक्ति दे।

परिवारीजनों ने बताया कि डोम राजा जगदीश के जांघ में कई महीने पहले घाव हो गया था. सिगरा स्थित निजी अस्पताल से उनका इलाज चल रहा था. मंगलवार सुबह उनकी हालत अचानक से ज्यादा खराब होने पर परिजन आनन-फानन में उन्हें अस्पताल ले गए, जहां थोड़ी देर बाद उन्होंने दम तोड़ दिया.

काशी में डोम राजा का अलग महत्व

जगदीश काशी के डोम राजा के तौर पर जाने जाते रहे. सदियों से काशी के महाश्मशान मणिकर्णिका घाट पर जलने वाली चिताओं के अंतिम संस्कार के लिए यही परिवार अग्नि देता है. यह धार्मिक मान्यता है कि चिता में जब डोम समुदाय का व्यक्ति आग लगाता है, तभी मोक्ष की प्राप्ति होती है.

पीएम मोदी के ये 4 चुनाव प्रस्तावक थे

बता दें डोम राजा जगदीश चौधरी के अलावा 2019 के लोकसभा चुनाव में बीएचयू के महिला महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्य डॉक्टर अन्नपूर्णा शुक्ला, जनसंघ के जमाने से जुड़े रहे बीजेपी के वरिष्ठ कार्यकर्ता सुभाष गुप्ता और कृषि वैज्ञानिक डॉक्टर रामशंकर पटेल प्रस्तावक थे.