Breaking News नयी दिल्ली बड़ी खबर राष्ट्रीय

देश की इकानमी पर RBI की रिपोर्ट: राहुल गांधी बोले- मैं जो कहता रहा, वही हुआ

नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा है कि आर्थिक गतिविधियों (Indian Economy)में गिरावट चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में भी जारी रह सकती है. RBI ने कहा कि मई और जून माह के दौरान आर्थिक गतिविधियों में जो बढ़त देखी गई थी वह कोरोना वायरस महामारी को नियंत्रित करने के लिये फिर से लगाये गये लॉकडाउन के कारण अपनी बढ़त खो बैठीं हैं. RBI की इस रिपोर्ट के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा है कि वह जो महीनों से कह रहे हैं उसकी पुष्टि RBI ने कर दी.

राहुल ने कहा कि सरकार को चाहिए कि उधार कम ले, खर्च ज्यादा करे. गरीब को रुपए दे, उद्योगपतियों के टैक्स में कोई कमी ना की जाए. मीडिया के जरिए रुख बदलने की कोशिश अर्थव्यवस्था की खामी को छिपा नहीं पाएगी.

राहुल ने ट्वीट में कहा- ‘मैं जो महीनों से कह रहा हूं RBI ने उसकी पुष्टि कर दी. सरकार को चाहिए कि उधार कम ले, खर्च ज्यादा करे. गरीब को रुपए दे, उद्योगपतियों के टैक्स में कटौती ना हो ताकि कंजम्प्शन के जरिए अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू किया जा सके.’ वायनाड सांसद ने कहा कि – ‘मीडिया के जरिए रुख मोड़ने से गरीबों को मदद नहीं मिलेगी या आर्थिक आपदा गायब नहीं होगी.’

दूसरी तिमाही में भी जारी रह सकता है आर्थिक संकुचन: आरबीआई
गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस को काबू में रखने के लिये 25 मार्च को पूरे देश में लॉकडाउन लगाया था. उसके बाद मई में इस लॉकडाउन में आंशिक छूट दी गई जिससे उसके बाद लगातार विभिन्न चरणों में हटाया गया है. लेकिन कुछ राज्यों में कोविड- 19 का प्रसार बढ़ने की वजह से फिर से लॉकडाउन लगाया गया है.

रिजर्व बैंक की मंगलवार को जारी वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि अब तक प्राप्त त्वरित आंकड़ों से जो संकेत मिलता है वह गतिविधियों में कमी आने की तरफ इशारा करते हैं यह अपने आप में अप्रत्याशित है. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय 31 अगस्त को चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान जारी करेगा. बहरहाल रिजर्व बैंक ने अपनी सालाना रिपोर्ट में आर्थिक वृद्धि के बारे में कोई अनुमान नहीं दिया है